भारत पहुंचने वाले हैं राफेल, पाकिस्तान और चीन की खैर नहीं
/

भारतीय वायुसेना का इंतजार खत्म दुबई पहुंच चुके हैं राफेल, अगले हफ्ते चीन और पाकिस्तान को देंगे टक्कर

भारतीय वायु सेना के लिए आई है अच्छी खबर बहुत जल्द पांच राफेल विमान भारत आने वाले हैं। हालांकि पांचों राफेल विमानो को अंबाला एयरफोर्स स्टेशन पर तैनात किया जाएगा। राफेल के आते ही भारतीय वायुसेना की ताकत और बढ़ जाएगी। क्योंकि भारत के दोनों ही पड़ोसी दुश्मन देश यानी चीन और पाकिस्तान के पास ऐसा कोई खतरनाक फाइटर जेट नहीं है। आपको बता दें जहां पाकिस्तान के पास अमेरिका से खरीदा हुआ F-16 फाइटर जेट है, तो वहीं चीन के पास अपना बनाया हुआ जे-20 लड़ाकू विमान है।

पाकिस्तान साबित होगा फिसड्डी

बता दें पाकिस्तान का एफ-16 फाइटर जेट भारतीय राफेल के आगे कुछ भी नहीं है। लेकिन चीन का जे-20 फाइटर जेट कई मामलों में राफेल को टक्कर दे सकता है। लेकिन घबराने जैसा कुछ भी नहीं है क्योंकि भारत के पास चीन के फाइटर जेट को जवाब देने के लिए भी कुछ है।

ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि अगले हफ्ते पांचों राफेल विमानों की तैनाती चीन से विवाद के मद्देनजर की जायेगी। आपको बता दें भारत ने सितंबर, 2016 में फ्रांस के साथ 36 राफेल लड़ाकू विमानों की डील की थी। यह डील करीब 59,000 करोड़ रुपए की है।

ऐसी जानकरी मिली है कि राफेल विमान फ्रांस से उड़ान भरने के बाद यूएई के अल डाफरा एयरबेस पर उतर चुके हैं। वहां से ईंधन से लेकर सभी टेक्निकल चेकअप के बाद राफेल सीधे भारत के लिए उड़ान भरेंगे और अंबाला एयरबेस पहुंचेंगे। सबसे खास बात ये भी है कि इसे भारतीय सेना के पायलट खुद भारत उड़ान भर के ला रहे हैं।

समय पर होगी बाकी राफेल की डिलीवरी

बता दें कंपनी के डॉक्यूमेंटेशन के हिसाब से कुल 36 और पायलटों को राफेल उड़ाने की ट्रेनिंग दी जाएगी। हालांकि अभी भी इन राफेल विमानों को भारतीय पायलट ही उड़ाकर भारत लाएंगे। ऐसी खबर मिली थी कि पहली खेप में सभी 10 लड़ाकू विमानों की डिलीवरी होनी थी, लेकिन विमान पूरी तरह से तैयार न हो पाने के वजह से अभी सिर्फ पांच राफेल विमान ही भारत पहुंचाए जा रहे हैं।

आपको बता दें इससे संबंध में भारतीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने 2 जून को फ्रांस की रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ले से भी बात की थी। जिसके बाद फ्रांस ने भरोसा दिलाया था कि भारत को मिलने वाले राफेल लड़ाकू विमान की डिलीवरी बिल्कुल सही वक्त पर होगी, कोरोना महासंकट का असर इस पर नहीं पड़ेगा। चीन के साथ चल रहे सीमा विवाद के बीच राफेल का भारत पहुंचना काफी महत्वपूर्ण है। इससे भविष्य में राफेल विमानों की डिलीवरी में भी तेजी आने की संभावना है ।

 

 

ये भी पढ़े:

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताया झूठा |

सुशांत सिंह राजपूत केस में करण जौहर मुश्किल में |

हिंदी जोक्स: जीजा ने साली को कहा ‘आधी घरवाली’, वो नजदीक आकर प्यार से कान में बोली |

47 चाइनीज ऐप्स पर भारत सरकार की बड़ी कार्रवाई |

अमिताभ बच्चन के एक ट्वीट से रातोंरात स्टार बनी आर्या दयाल |