मिर्ज़ापुर फ़िल्मी नहीं इनके बीच होती है असली जंग, विनीत सिंह Vs विजय मिश्रा दहल जाता है क्षेत्र

हाल ही में आई वेब सीरीज मिर्ज़ापुर काफी चर्चे में है  बतादे की पूर्वांचल के गैंगवार पर बनी इस सिरीज़ को लोग काफी पंसद कर रहे है . वही कालीन भैया उर्फ अखंडानन्द त्रिपाठी, फूलचंद त्रिपाठी उर्फ मुन्ना भइया या फिर गुड़ु पंडित हो या बबलू पंडित इन सभी ने दर्शकों के दिमाग पर एक छाप छोड़ बैठे है.

वही मिर्जापुर की लड़ाई में दो बाहुबली अखंडा त्रिपाठी और रतिशंकर शुक्ला के बीच जो कि मिर्जापुर के लिए होती है और मिर्जापुर किसका होगा . आगे दीखाने के लिए पार्ट 2 की भी अहम कड़ीं रही हैं.

मिर्ज़ापुर फ़िल्मी नहीं इनके बीच होती है असली जंग, विनीत सिंह Vs विजय मिश्रा दहल जाता है क्षेत्र

लेकिन वही इस वेबसीरिज की कहानी से इतर, मिर्जापुर और सोनभद्र की सीट के लिए दो बाहुबली आमने सामने रहते हैं. बतादे की ये लड़ाई फिल्मी नही बल्कि रियल लड़ाई है . इस पूर्वांचल के दो बाहुबली अपने अपने परिवार के सदस्यों को लड़ाते है जो कि इस लड़ाई में एक गैंगवार का अंदेशा होता है.

ये दोनों बाहुबली ज्ञानपुर के विधायक विजय मिश्रा और पूर्व विधायक विनीत सिंह है. वही उस सीट पर 2016 के चुनाव में विजय मिश्रा की पत्नी रामलली मिश्रा को चुनाव में उतारा था और दूसरी तरफ विनीत सिंह ने अपने भाई त्रिभुवन सिंह को मैदान में उतारा था. जहाँ से रामलली सपा के टिकट पर चुनाव लड़ रही थी तो वही त्रिभुवन सिंह बसपा के टिकट पर चुनावी मैदान में थे.

मिर्ज़ापुर फ़िल्मी नहीं इनके बीच होती है असली जंग, विनीत सिंह Vs विजय मिश्रा दहल जाता है क्षेत्र
विजय मिश्रा

2016 के चुनाव में रामलली मिश्रा की जीत तो हो गई थी लेकिन विजय मिश्रा और बिनीत सिंह में बगावत अभी भी जारी है . खबरों की माने तो विजय मिश्रा पर कई आरोप और मुकदमे भी लगे है. जो कि आने वाले चुनाव में मिर्जापुर और सोनभद्र की सीट को लेकर ये रंजिश चल रही है. पिछले बार की बात करे तो मामला किसी से छुपा नही है कि असलहों के साथ कॉउंटिंग की प्रक्रिया को अंजाम दिया जा रहा था.

मिर्ज़ापुर फ़िल्मी नहीं इनके बीच होती है असली जंग, विनीत सिंह Vs विजय मिश्रा दहल जाता है क्षेत्र
विनीत सिंह

विनीत सिंह की बात करे तो वो बसपा के सीट से चुनाव में आने का काम किये थे लेकिन अब वो बीजेपी में है , 2019 में वो चुनाव के अंतिम चरण में मतदान से तीन दिन पहले वो बीजेपी में शामिल हुए थे. ये भी कहा जाता है कि इससे चंदौली लोकसभा सीट को फायदा हुआ था.

साल 2010 में विनीत सिंह एमएलसी भी रहे चुके है . उनका शुरु से ही काफिले के साथ चलना जारी है  और इनके बड़े भाई चोलापुर से ब्लॉक प्रमुख रह चुके है . वही भतीजे संजय सिंह ग्राम प्रधान हैं.

दूसरी तरफ की बात करे तो विजय मिश्रा 5 बार के विधायक है .भदोही ज्ञानपुर में उनकी अपनी पकड़ है, ये भी कहा जाता है कि पूर्व सीएम मायावती और अखिलेश को चुनौती दे चुके है . वही कुछ महीने पहले उन्होंने यूपी के वर्तमान सीएम योगिआदित्य नाथ पर भी आरोप लगाए थे.

मिर्ज़ापुर फ़िल्मी नहीं इनके बीच होती है असली जंग, विनीत सिंह Vs विजय मिश्रा दहल जाता है क्षेत्र

 

ये भी पढ़े:

 कालीन भैया से मुन्ना त्रिपाठी तक जानिए कितने करोड़ के मालिक हैं मिर्जापुर के ये कलाकार

मिर्ज़ापुर-2 में साड़ी में दिखी मुन्ना त्रिपाठी की पत्नी, रियल लाइफ में है बेहद बोल्ड, देखें तस्वीरें

मिर्ज़ापुर 2 के भौकाल देखने को हो जाये तैयार, जाने कैसे और कहा देख सकते

Leave a comment

Your email address will not be published.