क्रिकेट में एक से ज्यादा बार संन्यास ले चुके है ये पांच खिलाडी, संन्यास था या मजाक बताइए हमें

क्रिकेट (Cricket) एक ऐसा खेल है जिसमे एक समय के बाद हर खिलाडी को इसका सामना करना पड़ता है. चाहे आप अपने खेल से कितना ही प्यार क्यों ना करते हो आपको एक दिन इस खेल को अलविदा कहना ही होगा. रिटायरमेंट के बाद खिलाडी कोचिंग के अलावा कमेन्ट्री में भी हाथ आजमाते है. वो सभी अपने अधूरे काम या हॉबी को पूरा करते है. पर कुछ क्रिकेटर ऐसे भी है जिन्होंने रिटायरमेंट की घोषणा तो की लेकिन कुछ समय बाद दोबारा मैदान पर वापसी की. तो चलिए आज नज़र डालते है ऐसे ही पांच क्रिकेटरों के बारे में जिन्होंने  रिटायर होने के बाद अपना फैसला पलट दिया और वापसी कर सबको चौका दिया.

5 खिलाडी जिन्होंने Cricket रिटायरमेंट के फैसले को बदला

1. जवागल श्रीनाथ

राहुल द्रविड़ और श्रीनाथ

जवागल श्रीनाथ इंडियन क्रिकेट (Cricket) के सब सबसे सफल तेज़ गेंदबाज़ो में से एक है. श्रीनाथ ने साल 2002 मे अपने इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी थी. पर वर्ल्ड कप 2003 में इंडियन टीम के कप्तान सौरव गांगुली के कहने पर उन्होंने अपना रिटायरमेंट वापस लिया और वर्ल्ड कप के स्क्वाड में शामिल हो गये. इस साल वर्ल्ड कप में इंडियन टीम फाइनल तक का सफ़र तय करने में सफल रही. ODI मैचों में श्रीनाथ 300 से भी अधिक विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाज़ है. रिटायरमेंट के बाद श्रीनाथ आईसीसी मैच रेफरी के तौर पर क्रिकेट से जुड़े हुए है.

2. जावेद मियादाद

क्रिकेट में एक से ज्यादा बार संन्यास ले चुके है ये पांच खिलाडी, संन्यास था या मजाक बताइए हमें

जावेद मियादाद पाकिस्तान क्रिकेट (Cricket) के शायद सबसे महान खिलाडी कहे जा सकते है. उन्होंने काफी मौकों पर टीम की कप्तानी भी की और साथ ही उन्होंने अपने दम पर भी टीम को कई मैचों में जीत दिलवाई. मियादाद छह वर्ल्ड कप खेलने वाले एकलौते पाकिस्तानी खिलाडी है. मियांदाद के सबसे यादगार पलों में से एक 1986 में भारत के खिलाफ था. यह मैच की आखिरी गेंद थी और पाकिस्तान को जीत के लिए चार रन चाहिए थे. पाकिस्तान ने उनके छक्के के अंदाज में जीत हासिल की. मियादाद ने अपने रिटायरमेंट की घोषणा की लेकिन सिर्फ दस दिनों के बाद पाकिस्तान की तत्कालीन प्रधान मंत्री बेनजीर भुट्टो के साथ बातचीत के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापस आ गए.

3. केविन पीटरसन

Kevin Pietersen

इंग्लैंड की टीम के पोस्टर बॉय केविन पीटरसन अपने देश के लिए काफी क्रिकेट (Cricket) खेला है. वो इंग्लैंड के सबसे काबिल खिलाडियों में से एक रहे है. शानदार बैटिंग के अलावा केविन पीटरसन कई विवादों के लिए भी जाने जाते है. पीटरसन ने 2011 में कहा था कि वह सबसे लंबे प्रारूप में अपने खेल को बेहतर बनाने के लिए सफेद गेंद वाले क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे. पर केविन पीटरसन ने बहुत ही जल्द अपने इस फैसले से यू-टर्न ले लिया. पीटरसन के नाम अंग्रेजों के बीच वनडे क्रिकेट में सबसे तेज 2,000 रन बनाने का रिकॉर्ड है. अपने करियर का अचानक अंत होने से पहले उन्होंने देश के लिए एकदिवसीय मैचों में 4,440 रन बनाए. पीटरसन तब फुल टाइम कमेंटेटर बन गए है.

4. कार्ल हूपर

क्रिकेट में एक से ज्यादा बार संन्यास ले चुके है ये पांच खिलाडी, संन्यास था या मजाक बताइए हमें

कार्ल हूपर वेस्ट इंडीज टीम के शानदार खिलाडियों में से एक रहे है. हूपर ने बयान लारा के साथ मिलकर टीम को शानदार शुरुआत देने का काम किया है. हूपर ने वेस्टइंडीज क्रिकेट में सबसे पहले 5000 रन, 100 विकेट, 100 कैच लेने का रिकॉर्ड अपने नाम किया था. इतने सालों में जैक्स कैलिस के अलावा कोई भी इस कारनामे की बराबरी नहीं कर पाया है. विश्व कप से तीन हफ्ते पहले अचानक जब उन्होंने अचानक से संन्यास की घोषणा कर दी. वह 2001 में संन्यास से वापस आए, ऐसे समय में जब वेस्टइंडीज की टीम खराब खेल रही थी. उन्होंने 2003 विश्व कप में वेस्ट इंडीज की कप्तानी भी की.

5. शाहिद आफरीदी

Cricket

संन्यास लेने वाले खिलाडियों की लिस्ट बने और शाहिद आफरीदी का नाम ना आये ऐसा कैसे हो सकता है. पकिस्तान के स्टार आलराउंडर शाहिद ने कई मौकों पर क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की है लेकिन कई मौके पर उन्हें टीम में अनुभव की कमी के चलते बार बार वापस बुलाया गया. पहली बार 2006 में शुरू हुई जब उन्होंने टेस्ट में टेम्परेरी रिटायरमेंट की घोषणा की लेकिन 2010 में कप्तान के रूप में वापस आ गए. पाकिस्तान के बेकार प्रदर्शन के चलते उन्होंने साल 2011 में फिर संन्यास ले लिया. अफरीदी ने आखिरकार वर्ष 2017 में क्रिकेट के तीनों प्रारूपों से संन्यास की घोषणा कर दी, लेकिन अफरीदी ने 2018 में विश्व एकादश मैच में फिर से भाग लिया, जो उनका आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच था.

और पढ़िए:

कोहली और सचिन के ये हमशक्ल लगते है एक दम जुड़वां भाई जैसे, लिस्ट में पाकिस्तानी क्रिकेटर भी शामिल

आईपीएल 2022 में चेन्नई की हार में ऑक्शन से लेकर कप्तानी तक ये पांच फैसले रहे हार के जिम्मेदार

आईपीएल 2022 में तोडा राजस्थान के इस युवा खिलाडी ने जडेजा और रोहित शर्मा का यह बड़ा रिकॉर्ड