Virat Kohli Press Conference

Virat Kohli Press Conference : भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच 26 दिसंबर से 3 वनडे और 3 टेस्ट मैचों की सीरीज IND vs SA खेलनी है. जिसके लिए टीम इंडिया 16 दिसंबर दक्षिण अफ्रिका के लिए रवाना होगी. इस बीच रोहित शर्मा Rohit Sharma और विराट कोहली Virat Kohli को लेकर मीडिया में तमाम प्रकार की खबरें सामने आई. तमाम उठा पठक के बीच आज विराट कोहली Virat Kohli ने वनडे की कप्तानी से हटाए जाने के बाद पहली बार प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी बात रखी है. इस दौरान विराट कोहली Virat Kohli Press Conference ने बीसीसीआई BCCI और सौरव गांगुली Sourav Ganguly को लेकर कई बड़े खुलासे किए हैं.

सौरव गांगुली को लेकर दिया बड़ा बयान

Virat Kohli Press Conference1

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान विराट कोहली Virat Kohli Press Conference ने टी 20 की कप्तानी को लेकर भी खुलकर बात की. इस दौरान विराट ने कहा कि- भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) की ओर से टी 20 की कप्तानी को लेकर उनसे कभी कोई बात नहीं हुई. बल्कि मेरे कप्तानी छोड़ने पर बीसीसीआई द्वारा इसे बेहतर कदम बताया गया. विराट ने सौरव गांगुली Sourav Ganguly के इस बात का खंडन करते हुए कहा कि बीसीसीआई या फिर किसी और ने मुझसे यह कभी नहीं कहा कि मुझे टी 20 की कप्तानी नहीं छोड़नी चाहिए.

‘चयनकर्ताओं ने कहा अब मैं कप्तान नहीं’

Virat Kohli
वहीं, प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान विराट कोहली ने Virat Kohli Press Conference यह जरूर कहा कि- “टी 20 की कप्तानी छोड़ते समय मैंने BCCI से कहा था कि मैं वनडे और टेस्ट में कप्तान बने रहना चाहूंगा. लेकिन अगर अधिकारियों को ऐसा लगता है कि मुझे ये जिम्मेदारी नहीं लेनी चाहिए. दक्षिण अफ्रिका दौरे पर टेस्ट टीम के चयन से 1 घंटे पहले मुझसे 5 चयनकर्ताओं ने संपर्क किया. इस दौरान मुझे बताया गया कि अब मैं वनडे टीम की कप्तानी नहीं करूंगा. बदले में मैने कहा ठीक है.”

सौरव गांगुली ने कही थी ये बात

Sourav Ganguly
बता दें कि विराट कोहली को वनडे की कप्तानी Virat Kohli Press Conference से हटाने के बाद से ही सोशल मीडिया पर तरह-तरह की बातें चल रही थी. जिस मामले पर बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली Sourav Ganguly ने अपनी बात रखते हुए कहा था कि- “रोहित को वनडे का कप्तान बनाने का निर्णय BCCI और चेतन शर्मा की अध्यक्षता वाले सेलेक्शन पैनल ने साथ मिलकर लिया गया है. गागुंली ने आगे कहा कि बोर्ड ने विराट से टी-20 कप्तानी नहीं छोड़ने का अनुरोध किया था. लेकिन वे इस बात के लिए तैयार नहीं हुए. जिसके बाद सेलेक्टर्स को सिमित क्रिकेट के खेल में अलग-अलग कप्तान रखना सही नहीं लगा. जिसको देखते हुए यह फैसला लिया गया है.”