एम्स ने सौंपी CBI को सुशांत की फाइनल रिपोर्ट खुला मौत का राज
/

एम्स के डॉक्टर ने सीबीआई को सौंपी सुशांत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट, खुला मौत का राज

सुशांत केस में अब तक चार एजेंसियों ने इस केस को सुलझाने का जिम्मा ले रखा है, लेकिन अभी तक कोई खास सबूत सामने नहीं आए है। सुशांत केस में जांच कर रही सेंट्रल फोरेंसिंक साइंस लैबोरेट्री (सी एफ एस एल) ने अपनी रिपोर्ट सीबीआई को सौंप दी है। इस रिपोर्ट में सुशांत की बताई जा रही आत्महत्या के सभी पहुलओं को जांच की गई है। उनके राइट हैंडर होने से लेकर फांसी में इस्तेमाल होने वाले कपड़े की भी जांच की गई है।

नहीं मिला हत्या का कोई सबूत

सीएफएसएल की रिपोर्ट में हत्या का कोई सबूत नहीं मिला है। सीएफएसएल ने सीन आफ क्राइम के री-कंस्ट्रक्शन के बाद सुशांत की मौत मामले को फुल हैंगिंग मानने से साफ इन्कार कर दिया है। जांचकर्ताओं नें सुशांत की मौत को पार्शियल हैंगिंग माना है। इसका मतलब होता है कि पूरी फांसी ना लगाकर आधी फांसी लगाना। सुशांत के घरवालों ने उन्हें राइट हैंडर माना है। राइट हैण्डर और गले पर पड़े लिगेचर मार्क की गांठ की स्थिति का भी रिपोर्ट में विश्लेषण किया गया है। सेक्शन ऑफ हैंगिंग मैटेरियल एंड इट्स एनालिसिस की रिपोर्ट भी सीएफएसएल नें अपनी रिपोर्ट में शामिल की है। इसमें कहा गया है कि मौके पर बरामद कपड़ा ही सुशांत की फांसी वाला कपड़ा ही था।

फांसी वाले कपड़े की जांच

फांसी वाले कपड़े की जांच सेक्शन ऑफ हैंगिंग मैटेरियल एंड इट्स एनालिसिस द्वारा की गई, जिसमें बताया गया है कि इस कपड़े की जानकारी किस-किस को थी और सुशांत के इसे खुद चुनने की कितनी संभावनाएं थीं। सीएफएसएल की जांच में फांसी में लगाए बल का सटीक परमाणु स्थान का ज़िक्र भी है। इसके साथ ही रिपोर्ट में इसमें कितने लोगों का बल लगा है, उसका भी जिक्र है। इसमें कितने वक्त तक बल लगाया गया, रिपोर्ट में इसका भी जिक्र है।

 

 

ये भी पढ़े:

NCB ने रिया चक्रवर्ती पर कोर्ट में लगाया गंभीर आरोप, नहीं होगी जमानत |

सारा और श्रद्धा से पूछताछ में हुआ कुछ ऐसा अभिनेत्रियों के घर पहुंची NCB |

बेटी की खरीददारी के लिए शाहजहां ने बनवा डाला था चांदनी चौक, जानिए कहानी |

4-4 एजेंसियां कर रही हैं जांच फिर नहीं मिला अब तक सुशांत को न्याय |

जानिए कौन है जोहरा सहगल, जिसके लिए गूगल ने बनाया डूडल |