इन पाँच कामों को करने से बचे गर्भवती महिलाएं नहीं तो हो सकते हैं खतरनाक दुष्प्रभाव

सूर्य ग्रहण : इन पाँच कामों को करने से बचे गर्भवती महिलाएं नहीं तो हो सकते हैं खतरनाक दुष्प्रभाव

इस रविवार (21 जून ) को पड़ रहा सूर्य ग्रहण पर भारतीय ज्योतिष के अनुसार जब कभी भी सूर्य या चंद्र ग्रहण जैसी स्थिति बनती है, तो गर्भवती स्त्रियों को आवश्यक रूप से कुछ बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए. हालांकि सूर्य ग्रहण एक खगोलीय घटना है, लेकिन भारतीय ज्योतिष और धर्म शास्त्र मे इसका अलग ही वर्णन किया गया है.

ऐसी मान्यता है कि सूर्य ग्रहण के दौरान सभी मानव जाति को सावधानी बरतनी चाहिए. खासतौर से गर्भवती महिलाओं को तो और भी सतर्क रहने की सलाह भारतीय ज्योतिष देता है. ज्योतिष आचार्य सुशील कृष्ण शास्त्री की माने तो गर्भवती स्त्रियों के साथ सभी को यह सावधानी बरतनी चाहिए……

घर के अंदर ही रहें गर्भवती महिलाएं

गर्भवती महिलाएं घर के अंदर ही रहे. ऐसी मान्यता है की सूर्य ग्रहण के दौरान बाहर निकलने से अजन्मे बच्चे का चेहरा विकृत हो जाता है या जन्म के निशान हो सकते हैं. साथ ही होंठों पर भद्दे निशान भी पड़ सकते हैं.

सूर्य को नंगी आँखों से न देखें

सूर्य ग्रहण के दौरान सूर्य को कभी नग्न आंखों से नहीं देखना चाहिये. इस बात को तो विज्ञान भी मानता है. चाहे वह गर्भवती हो या कोई और ग्रहण मे सूर्य को न देखें. इससे रेटिना को नुकसान पहुंचता है.

सब्जी न काटें

गर्भवती महिलाओं को सूर्य ग्रहण के दौरान पिन, सुई और चाकू का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. मान्यता है कि ऐसा करने से शिशु में जन्म दोष उत्पन्न हो सकता है. अर्थात सब्जी आदि न काटे और सिलाई आदि भी न करें.

सूर्यग्रहण के दौरान न सोयें

ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को सोने से बचना चाहिए. यदि संभव हो, तो उन्हें फर्श या घास पर बैठना चाहिए.

2 बार करें स्नान

सूर्य ग्रहण के दौरान अगर संभव हो तो गर्भवती को दो बार स्नान करना चाहिए. एक ग्रहण से पहले और दूसरा ग्रहण समाप्ति के बाद. इस दौरान ध्यान रखें कि स्नान सिर से किया जाए.

 

 

HindNow Trending: पॉलीटेक्निक अभ्यर्थियों के लिए वरदान साबित हुआ कोरोना काल | सूर्य ग्रहण के प्रकोप पर भारी
ये पाँच चीज़ेसूर्य ग्रहण : प्राकृतिक आपदा लेकर आ रहा है साल का पहला सूर्यग्रहण | 
कौन हैं सुषमा स्वराज की इकलौती बेटी | ये देशी चटनी खाने से कम होगा कोरोना का खतरा