बैन होने के बावजूद भी इन स्मार्टफोन में चल रहा है पबजी, जाने कैसे

भारत सरकार ने कई हफ्तों पहले देश में पब्जी  गेम को मोबाइल गेम पर प्रतिबंध लगा दिया था, लेकिन पब्जी प्रतिबंध का गेम खेलने वालों पर अधिक प्रभाव नहीं दिखता है। उपयोगकर्ता प्रतिबंध के बावजूद अपने स्मार्टफोन पर पब्जी मोबाइल गेम खेल रहे हैं। आइए जानते हैं कि भारत सरकार के प्रतिबंध के बावजूद पब्जी मोबाइल गेम मोबाइल पर कैसे खेला जा सकता है।

इस तरह से खेल खेला जाता है

बैन होने के बावजूद भी इन स्मार्टफोन में चल रहा है पबजी, जाने कैसे

उपयोगकर्ता पब्जी मोबाइल गेम का पक्ष लोड कर रहे हैं। इसका मतलब है कि गेम की एपीके फाइल फोन में डाउनलोड हो जाती है और फिर हम पब्जी मोबाइल को सिंपल इंटरनेट से कनेक्ट कर सकते हैं। उपयोगकर्ता तब अपने गेम को सर्वर से आसानी से जोड़ सकते हैं। आप गेम अपडेट भी डाउनलोड कर सकते हैं। उसके बाद पब्जी उपयोगकर्ता आसानी से खेल का आनंद ले सकते हैं।

इन फोन पर गेम खेलना है आसान

बैन होने के बावजूद भी इन स्मार्टफोन में चल रहा है पबजी, जाने कैसे

सूत्रों के पब्जी गेम्स के साइड डाउनलोड केवल सैमसंग और शोआमी पर किए जा सकते हैं। सैमसंग और शोआमी फोन स्वचालित रूप से मोबाइल फोन ब्राउज़रों से एपीके फ़ाइलों को डाउनलोड करना शुरू करते हैं। डिवाइस आवश्यक फ़ाइलों को डाउनलोड करता है। हालांकि, इसे डाउनलोड करने से पहले डिवाइस को इंस्टॉल करने की अनुमति की आवश्यकता होती है।

प्रतिबंध के बावजूद भारत में PUBG खेल खेलना संभव है, क्योंकि इंटरनेट सेवा प्रदाताओं ने अभी तक गेम सर्वर के आईपी पते को पूरी तरह से फ़िल्टर नहीं किया है और ये सर्वर अभी तक अवरुद्ध नहीं हैं। आईएसपी के लिए इस तरह के खेल की अनुमति देना गैरकानूनी है। भारत ने पिछले हफ्ते PUBG पर प्रतिबंध लगा दिया था और आईएसपी को अपने नेटवर्क पर गेम को ब्लॉक करने का निर्देश दिया था।

 

 

ये भी पढ़े:

हाथरस रेपकांड मामले में सवालों के दायरें में फंसी यू पी पुलिस |

जानिए कौन है राधाकृष्ण दमानी जिससे मुकेश अंबानी को मिल सकती है कड़ी टक्कर |

तारक मेहता शो के मेकर ने अंजलि भाभी उर्फ नेहा पर लगाया आरोप |

सोना चांदी खरीदने से पहले जानिए ये नियम नहीं तो होगा नुकसान |

राहुल गांधी समेत 200 नेताओं पर एफआईआर, जाने वजह |

मेरा नाम दिव्यांका शुक्ला है। मैं hindnow वेब साइट पर कंटेट राइटर के पद पर कार्यरत...

Leave a comment

Your email address will not be published.