विकास दुबे एनकाउंटर के सच का हुआ एक नया खुलासा, क्या छुपा रही है उज्जैन पुलिस?
विकास दुबे एनकाउंटर के सच का हुआ एक नया खुलासा, क्या छुपा रही है उज्जैन पुलिस?

बिकरू कांड का आरोपी विकास दुबे 10 जुलाई को महाकाल मंदिर उज्जैन में दबोच लिया गया था. विकास दुबे ने 2 जुलाई की रात अपने साथियों के साथ मिलकर डीएसपी और सीओ के समेत आठ पुलिसकर्मियों की की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी, जिसके बाद वह फरार भी हो गया था. पुलिस लगातार उसे ढूंढने में लगी हुई थी. पूरे देश में हर राज्य में उसे ढूंढने के लिए पुलिस की टीम लगातार काम कर रही थी. मध्य प्रदेश में उज्जैन पुलिस ने विकास दुबे को 10 जुलाई के दिन महाकाल के मंदिर में गिरफ्तार कर लिया था.

विकास दुबे एनकाउंटर में अब एक बड़े सच का हुआ खुलासा, क्या छुपा रही उज्जैन पुलिस?

विकास दुबे पर घोषित किया गया था पांच लाख का इनाम

बता दें कि विकास दुबे के फरार होने के बाद इनामी राशि की भी घोषणा की गई थी. 8 दिन तक लगातार उसकी खोज की गई जिसके बाद इनामी राशि बढ़ते बढ़ते 500000 तक पहुंच गई. विकास दुबे पर घोषित की गई यह पांच लाख की राशि अब उज्जैन पुलिस को सौंप दी जाएगी.

उज्जैन पुलिस के दावे के बाद डीजी मुख्यालय इससे संबंधित सभी प्रक्रिया शुरू कर सकते हैं. विकास दुबे के फरार होने के बाद कानपुर पुलिस लगातार उसे पकड़ने के प्रयास में लगी हुई थी, लेकिन कानपुर पुलिस टीम का यह प्रयास असफल रहा. जिसके बाद यहां की टीम इस बात का दावा नहीं कर रही.

विकास दुबे एनकाउंटर में अब एक बड़े सच का हुआ खुलासा, क्या छुपा रही उज्जैन पुलिस?

नाटकीय ढंग से गिरफ्तार किया गया था विकास?

बता दें कि, जब विकास दुबे गिरफ्तार हुआ था, तो उस समय एक वीडियो भी वायरल हुआ था. जिसमें विकास दुबे ये चिल्लाते हुए दिखाई दे रहा था, ‘मैं विकास दुबे हूं, कानपुर वाला’ ‘मैं विकास दुबे हूं, कानपुर वाला’. जिसके बाद बताया जा रहा है कि उसे नाटकीय ढंग से गिरफ्तार किया गया था. सभी को यह भी संदेह था कि, उज्जैन पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया है या फिर उसने खुद ही सरेंडर किया है.

विकास दुबे एनकाउंटर में अब एक बड़े सच का हुआ खुलासा, क्या छुपा रही उज्जैन पुलिस?

उज्जैन पुलिस द्वारा गिरफ्तार हो जाने के बाद विकास दुबे को कानपुर लाया जा रहा था. कानपुर लाए जाने के दौरान ही एसटीएफ से मुठभेड़ में 11 जुलाई को विकास दुबे मार गिराया गया. विकास दुबे के एनकाउंटर हो जाने के 3 महीने बाद तक उस पर घोषित की गई इनामी राशि का किसी ने भी दावा नहीं किया. जिसके बाद डीजे मुख्यालय ने फैसला लिया कि अब यह राशि उज्जैन पुलिस को ही सौंपी जाएगी. फिलहाल शासन स्तर से उज्जैन पुलिस को घोषित किए गए इनाम की राशि दिए जाने पर विचार किया जा रहा है.

विकास दुबे एनकाउंटर में अब एक बड़े सच का हुआ खुलासा, क्या छुपा रही उज्जैन पुलिस?

क्यों नहीं किया उज्जैन पुलिस ने दावा

उज्जैन पुलिस ने इसलिए भी अभी तक दावा नहीं किया है क्योंकि, यह भी खबर सामने आई थी कि महाकाल मंदिर के निजी सुरक्षाकर्मियों द्वारा विकास को 10 जुलाई के दिन पकड़कर उज्जैन पुलिस के हवाले कर दिया गया था. इन सबके चलते अभी यह साबित नहीं हुआ है, कि उज्जैन पुलिस को ही विकास दुबे पर घोषित की गई राशि सौंपी जानी चाहिए.

ये भी पढ़े:

विकास दुबे को पकड़वाना मंदिर के पुजारी के लिए बना मुसीबत, बताई व्यथा |

 विकास दुबे की एक और दरिंदगी आई सामने, फिल्मों के विलेन से नहीं था कम |

 बिकरू में घूम रहा विकास दुबे का भूत, गाँव वालों ने किया कई खुलासे |

 कानपुर एनकाउंटर: विकास दुबे ने परिवार को फायदा पहुँचाने के लिए किया था ये काम |

Urvashi Srivastava

मेरा नाम उर्वशी श्रीवास्तव है. मैं हिंद नाउ वेबसाइट पर कंटेंट राइटर के तौर पर...

Leave a comment

Your email address will not be published.