सुशांत सिंह राजपूत की सफलताओं के लिए मनोज बाजपयी ने दिया बड़ा बयान, बोले मुझे नहीं मिली थी जल्दी सफलता

सुशांत सिंह राजपूत के आत्महत्या पर अब मनोज बाजपेई ने कही ये बड़ी बात

Manoj Bajpai made a big statement for the successes of Sushant Singh Rajput, said I did not get quick success

बिहार से मुंबई की दुनिया में अपना सिक्का चलाने वाले सुशांत सिंह राजपूत के साथी मनोज बाजपेई भी बिहार के ही हैं। दोनों कई बार मिल चुके थे, जिसकी तस्वीरें भी गवाह हैं। लेकिन मनोज बाजपेई के साथी सुशांत सिंह ने उनका और दुनिया का साथ बहुत जल्दी छोड़ दिया, इसको लेकर मनोज बाजपेई ने अब सुशांत सिंह राजपूत के लिए बड़ी बात कही है।

अचीवमेंट को बताया बेहतरीन

सुशांत सिंह राजपूत के बारे में बात करते हुए मनोज बाजपेई ने उनकी खूब तारीफ की है, साथ ही उनके करियर को लेकर भी खुशी जाहिर की।
एक इंटरव्यू में बात करते हुए मनोज ने कहा,

हम सभी के पास उतार-चढ़ाव और इमोशंस होते हैं। सुशांत भी अलग नहीं थे। मुझे नहीं लगता कि मैं इतना टैलंटेड हूं। मुझे नहीं लगता कि मैं उतना इंटेलिजेंट हूं जितने वो हुआ करते थे। मुझे नहीं लगता कि 34 साल की उम्र तक मैंने वो सब अचीव कर पाया था जो उन्होंने कर लिया था। मुझे लगता है कि मेरे अचीवमेंट्स बहुत ही छोटे हैं। मैं उन्हें इसी तरह से याद करता हूं।

जमीन से था जुड़ाव

अपनी बातचीत में मनोज बाजपेई ने सुशांत सिंह राजपूत के शांत और जमीन से जुड़े स्वभाव को लेकर कहा,

मैं उन्हें सिर्फ एक अच्छे इंसान के रूप में ही नहीं बल्कि ऐसे इंसान के रूप में जानता हूं, जो पटना से था। जो इतना अच्छा डांस करने, कूल होने और प्यारी मुस्कुराहट होने के बाद भी जो जड़ों से जुड़ा था। अंदर से वह छोटे कस्बे के बंदे थे। उनके अंदर छोटे शहर पटना का लड़का छिपा था। जिससे मैं बहुत रिलेट करता था।

अब क्या फायदा इन जज्बातों का?

सुशांत सिंह राजपूत एक बेहतरीन एक्टर थे, जिनकी हर तरफ तारीफ हो रही है, लेकिन अफसोस कि जब तक वे हमारे बीच थे, तब तक किसी को उनकी फिक्र नहीं थी, लेकिन अब सबका प्यार उनको मिल रहा है जो कि बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। आपको बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत ने 14 जून को सुसाइड किया था।

 

 

 

HindNow Trending : सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म | टी-सीरीज की मालकिन | फ्लिपकार्ट में 
जबरदस्त डिस्काउंट | सुशांत सिंह राजपूत के निधन पर पिता कृष्ण कुमार | चीन की खैर नहीं