इस साल नहीं होगी कांवड़ यात्रा, तीन राज्यों की सरकार ने सुनाया अपना फैसला

इस साल नहीं होगी कांवड़ यात्रा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और हरियाणा की सरकार ने दिया सख्त हिदायत

कोरोना को देखते हुए ओड़िसा में भगवान जगरनाथ की प्रसिद्ध रथ यात्रा पर सुप्रीम कोर्ट की मनाही के बाद अब कावड़ यात्रा पर रोक लगा दी गयी है। इसका फैसला उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और हरियाणा की सरकार ने मिलकर ली है। हर साल कावड़ यात्रा यूपी सरकार योगी जी के आने के बाद और धूम धाम से मनाया जा रहा था। पिछले वर्ष हरिद्वार में 4 करोड़ से ज्यादा लोग यात्रा किये।

इस साल कावड़ यात्रा 6 जुलाई से शुरू होने वाली थी। covid-19 को देखते हुई शानिवार को सरकार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर के कावड़ यात्रा पर रोक लगा दी।

यूपी के मुख्यमंत्री ने कहा कि महामारी को देखते हुये कावड़ भक्तो को बाहर न निकलने की अनुरोध कर रहे हैं। और सावन के महीनों में काफी भीड़ होती है, ऐसे महामारी को रोकने के लिये मंदिर में एक बार मे 5 लोग को जाने की अनुमति दी।

बकरीद पर पांच से अधिक लोग न हों जमा : योगी

सीएम योगी ने निर्देश दिया है कि

“एक अगस्त को मनाए जाने वाले ईद-उल-अजहा (बकरीद) के दौरान भी भीड़भाड़ न हो। सभी जिलों में धर्मगुरुओं से संवाद कर यह सुनिश्चित किया जाए कि बकरीद पर्व पर किसी भी धार्मिक स्थल पर पांच से अधिक लोग एकत्र न हों। संक्रमण को देखते हुए समस्त पर्वों के दौरान सभी समुदायों के लोगों को जागरूक किया जाए।”

कोरोना वायरस काफी तेजी से भारत में फ़ैल रहा है, अब तक 4 लाख से ज्यादा मरीज कोरोना संक्रमित हो गये हैं। वहीं लगभग 2 लाख 28 हजार लोग कोरोना को मात देकर घर वापस लौट चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च को लॉकडाउन की घोषणा करते समय ही सभी धार्मिक स्थल बंद कर दिए थे, हालाँकि अनलॉकडाउन 1 में राज्यों को ये अधिकार दिए गये हैं, कि वो अपने राज्य में अपने अनुसार चीजों को खोलने या बंद करने का फैसला ले सकते हैं।

 

 

 

 

HindNow Trending: दुनिया के 10 सबसे अमीर लोग | नेपाल को महंगी पड़ी भारत से दुश्मनी | भारत में बेकाबू
हुआ कोरोनावायरस चार लाख पार पहुंची संख्या | राशि फल 21 जून 2020: तुला राशि वालो को होगा आर्थिक लाभ