राजस्थान की सियासत में हुई ईडी और इनकम टैक्स की एंट्री, भाजपा पर भड़की कांग्रेस

नई दिल्ली: राजस्थान की सियासत में एक तरफ जहां सियासी संकट गहराता जा रहा हैं दूसरी तरफ अब ये कांग्रेस की आंतरिक लड़ाई अब भाजपा कांग्रेस में बदलती जा रही है। इसी बीच इनकम टैक्स डिपार्टमेंट और इन्फोर्समेंट डिपार्टमेंट ने राजस्थान में होटल मालिकों और प्रबंधन के खिलाफ भ्रष्टाचार को लेकर रेड डाल दी है। जिसके बाद अब कांग्रेस ने भाजपा को आड़े हाथों लिया है।

होटल में हैं कांग्रेसी विधायक

राजस्थान की सियासत में हुई ईडी और इनकम टैक्स की एंट्री, भाजपा पर भड़की कांग्रेस

दरअसल, इनकम टैक्स के बाद ईडी ने प्रदेश में होटल व्यावसाय व दूसरे बिजनेस से जुड़े लोगों के कई ठिकानों पर थेड डालते हुए कार्रवाई की है। ईडी की टीम ने जयपुर में स्थित होटल फायरमाउंट और उससे जुड़े लोगों के खिलाफ छापेमारी शुरू की है औ इस होटल के मुख्य निवेशक रतनकांत शर्मा बताये जा रहे हैं आपको बता दें कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समर्थक विधायक रुके हुए हैं।

क्या है रेड की वजह

खबरों के मुताबिक ईडी को महत्वपूर्ण जानकारी मिलने के बाद रतन शर्मा का मॉरिशस कनेक्शन निकाला है और इसको लेकर 96.7 करोड़ रुपये का विदेशी कनेक्शन के मामले में ईडी ने जांच करते हुए कार्रवाई शुरू की है। राजस्थान में विभाग की सर्च ऑपरेशन के साथ-साथ केंद्रीय जांच एजेंसी ने भी सर्च ऑपरेशन शुरू करते हुए कार्रवाई शुरू कर दी है।

भड़क गई है कांग्रेस

राजस्थान में सियासी पारे के बीच ईडी और इनकम टैक्स का जाना कांग्रेस को रास नहीं आ रहा है। कांग्रेस के गहलोत समर्थक विधायक जिस होटल में रुके हुए हैं। वहीं इसी होटल के खिलाफ ईडी और इनकम टैक्स कार्रवाई कर रही है। कांग्रेस ने भाजपा और मोदी सरकार के खिलाफ आरोप लगाया है कि राजस्थान में ईडी और इनकम टैक्स की रेड सियासत में कांग्रेस पर राजनीतिक द्वेष के लिए की जा रही है और इसी के चलते मोदी सरकार ने राजस्थान में ईडी और इनकम टैक्स भेजी थी।

 

 

 

 

 

ये भी पढ़े:

सीबीएसई 12वीं में फिसड्डी साबित हुआ पटना |

बोल्ड सीन देने के कारण जब अटक गई थी रेखा की ये फिल्म |

भारत में कोरोना की दवा से जुड़ी बहुत बड़ी खुशखबरी |

31 जुलाई तक बिहार में लॉकडाउन, जानिए क्या रहेगा खुला |

पहले दोनों बच्चों को फांसी पर झुलाया फिर पति-पत्नी ने भी कर ली आत्महत्या |

Leave a comment

Your email address will not be published.