विकास दुबे के एनकाउंटर पर इस चश्मदीद ने कर दिया सबसे बड़ा खुलासा, नहीं हुआ था कोई एक्सीडेंट

विकास दुबे के एनकाउंटर पर चश्मदीद का सबसे बड़ा खुलासा, नहीं हुआ था कोई एक्सीडेंट

विकास दुबे के एनकाउंटर को लेकर कानपुर के चश्मदीद शख्स ने मीडिया के सामने एक बड़ा खुलासा किया है।

कानपुर: विकास दुबे का एनकाउंटर कर दिया है लेकिन सवाल बने हुए हैं कि क्या उसने भागने की कोशिश की ? या फिर ये एक फेक एनकाउंटर कर दिया गया है। इस मामले में अलग-अलग बयान आ रहे हैं इसी बीच एक बड़ा खुलासा हुआ एक चश्मदीद ने जो बताया है वो सब को हैरान करने वाली है।

गोलियों की सुनी थी आवाज

दरअसल, एनकाउंटर के दौरान पास ही से गुज़र रहे कई लोगों से बात चीत की गई। इस मामले में एक स्थानीय ने जो बयान दिया वो चौंकाने वाला है। आशीष पासवान ने समाचार एजेंसी ANI से कहा,

“हमने गोलियों की आवाज़ें सुनी थीं… पुलिस ने हमें दूर भगा दिया… हम अपने घर लौटकर जा रहे थे…”

नहीं हुआ कोई एक्सीडेंट

गाड़ी के एक्सीडेंट के सवालों पर जब पूछा गया कि क्या गाड़ी का कोई एक्सीडेंट हुआ था, तो उन्होंने बोला कि नहीं गाड़ी का कोई एक्सीडेंट नहीं हुआ था। उनका बयान पुलिस की कहानी के बिल्कुल उलट है, जिसमें पुलिस ने कहा है कि विकास दुबे को जिस गाड़ी से ले जाया जा रहा था, बारिश के कारण वही गाड़ी पलट गई थी। चश्मदीद ने कहा

‘वहां किसी गाड़ी का कोई एक्सीडेंट नहीं हुआ था गाड़ी सही सलामत थी’

सुनियोजित साजिश का शक

आपको बता दें कि विकास दुबे के मारे जाने पर लोगों में ख़ुशी की लहर है पुलिस की लोग तारीफ कर रहे हैं और उसकी जय-जय के नारे लगा रहे हैं। लेकिन सवाल फिर भी बरकरार है कि क्या एनकाउंटर फेक था और चश्मदीदों के जो बयान है वो सुनियोजित एनकाउंटर की ओर इशारा कर रहे हैं।

 

 

 

ये भी पढ़े:

विकास दुबे एनकाउंटर मामलें में घिरी योगी सरकार, IPS अफसर ने कहा |

शहीद पुलिसकर्मी के पिता ने कहा- “योगी जी की आँखों में क्रोध और सीने में धधकती ज्वाला  |

विकास दुबे का एनकाउंटर हुआ और लखनऊ पुलिस ने उसकी पत्नी और बच्चे के साथ किया ये काम |

अंतिम संस्कार के समय फूट-फूटकर रोया विकास दुबे का 12 साल का बेटा |

पोस्टमार्टम के बाद माता-पिता ने शव लेने से किया इंकार |

थप्पड़ पड़ने पर चिल्लाया था विकास दुबे, कानपुर में होता तो |