विकास दुबे एनकाउंटर मामलें में घिरी योगी सरकार, Ips अफसर ने कहा- किसे बचाया जा रहा है
IPL AMITABH THAKUR

आठ पुलिसकर्मियों को मौत के घाट उतार कर और पूरी पुलिस टीम की आँख में धुल झोंक कर कानपुर क्या उत्तर प्रदेश से पूरी सफाई के साथ भाग जाने वाला हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे क्या इतना बेवकूफ था कि पूरी पुलिस फ़ोर्स के बीच भागने कि कोशिश की होगी. जिस पर 71 मुकदमे दर्ज़ हो वह इतना भी नासमझ तो नहीं होगा कि यह नहीं जनता होगा कि भागने पर पुलिस एनकाउंटर कर देगी.

विकास दुबे एनकाउंटर मामलें में घिरी योगी सरकार, Ips अफसर ने कहा- किसे बचाया जा रहा है

फिर एक सवाल यह भी खड़ा होता है कि अगर उसे भागना ही था तो वह आत्मसमर्पण करता ही क्यों. जो पुलिस फ़ोर्स उसे उत्तर प्रदेश से भागने पर नहीं रोक पाई तो क्या उसे उत्तर प्रदेश के बाहर पकड़ सकती थी? ऐसे ही न जाने कितने सवाल विकास दुबे अपने पीछे छोड़ गया है, जिस पर गंभीरता से जाँच होनी आवश्यक है ताकि मामले कि तह तक जाकर पूरी सच्चाई उजागर की जाए.

विकास दुबे एनकाउंटर मामलें में घिरी योगी सरकार, Ips अफसर ने कहा- किसे बचाया जा रहा है

यहां एक सवाल यह भी उठता है कि अगर विकास जिन्दा रहता तो न जाने कितने ही के चेहरे से नकाब उतारता. फिलहाल इस कानपुर एनकाउंटर मामले पर सैकड़ों सवाल खड़े हो रहे हैं. इस पर पूरे देश की राजनीति गरमा गई है. एक ओर कांग्रेस के कद्दावर नेता व हरियाणा के कैथल विधायक रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट करते हुए विकास दुबे एनकाउंटर मामले पर कुछ यू कहा है…

विकास दुबे एनकाउंटर मामलें में घिरी योगी सरकार, Ips अफसर ने कहा- किसे बचाया जा रहा है

“विकास दुबे एनकाउंटर में मारा गया. कई लोगों ने पहले ही आशंका जताई थी.पर अनेकों सवाल छूट गए…. जिसमें (सवाल एक)अगर उसे भागना ही था तो उज्जैन में सरेंडर ही क्यों किया, 2. उस अपराधी के पास क्या राज है जो सत्ता शासन से एक गठजोड़ को उजागर करते? 3. पिछले 10 दिनों की कॉल डिटेल जारी क्यों नहीं.

आईपीएस ने पुलिस की कार्यशैली पर लगाया प्रश्नचिन्ह….

विकास दुबे एनकाउंटर मामलें में घिरी योगी सरकार, Ips अफसर ने कहा- किसे बचाया जा रहा है

दूसरी ओर आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने विकास दुबे के सरेंडर करने के बाद ही ट्वीट करते हुए यह आशंका जताई थी कि उसका एनकाउंटर कर दिया जाएगा और मामले की निष्पक्ष जांच नहीं हो पाएगी.

उन्होंने लिखा

” विकास दुबे का सरेंडर हो गया. हो सकता है कल वह यूपी पुलिस कस्टडी से भागने की कोशिश करे, मारा जाए. इस तरह विकास दुबे चैप्टर क्लोज हो जाएगा, किंतु मेरी निगाह में असल जरूरत इस कांड से सामने आई यूपी पुलिस के अंदर की गंदगी को ईमानदारी से देखते हुए उस पर निष्पक्ष/ कठोर कार्रवाई करना है. यदि लीपापोती हुई तो परिणाम भयावह होंगे और शहीद पुलिसकर्मियों का बलिदान पूरी तरह व्यर्थ हो जाएगा.”

एक दूसरी ट्वीट में  उन्होंने लिखा है कि

“हम विकास दुबे को गिरफ्तार नहीं कर सकते और वह उज्जैन में सरेंडर हो गया.”

 

 

 

ये भी पढ़े:

शहीद सीओ देवेंद्र कुमार मिश्रा की रिश्तेदार ने विकास दुबे एनकाउंटर पर तोड़ी चुप्पी |

विकास दुबे के एनकाउंटर पर बॉलीवुड अभिनेत्री तापसी पन्नू |

विकास दुबे के एनकाउंटर पर चश्मदीद का सबसे बड़ा खुलासा |

शूटआउट वाली रात 5 किमी तक साईकिल चला कर भागा था विकास दुबे |

3 भारतीय मोबाइल कम्पनियां देंगी चीनी फोन को कड़ी टक्कर |

सुशांत सिंह राजपूत ने पहले ही दे दिया था आत्महत्या का संकेत |

Leave a comment

Your email address will not be published.