भारत में क्यों नहीं होती है हींग की खेती, हर साल विदेश से मंगाई जाती है 600 करोड़ रुपए की हींग

पूरे देश में शायद ही ऐसा कोई किचन होगा, जिसमें हींग का इस्तेमाल नहीं होता होगा. यहां तक कि पेट दर्द जैसी समस्या में इसे दवा की तरह भी इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन क्या आपको पता है कि हर घर के लिए इतने काम की चीज हींग भारत में उगाई ही नहीं जाती है.अब तक जितनी भी हींग भारत में इस्तेमाल होती थी, उसे विदेश से आयात किया जाता था, लेकिन अब सब कुछ बदलने वाला है. अब देश में पहली बार हींग की खेती शुरू हुई है.

हींग की खेती करने की कोशिश

भारत में क्यों नहीं होती है हींग की खेती, हर साल विदेश से मंगाई जाती है 600 करोड़ रुपए की हींग

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक 1963 से 1989 के बीच भारत ने एक बार हींग की खेती करने की कोशिश की थी. हालांकि, इसके कहीं पुख्ता साक्ष्य नहीं मिलते. 2017 में हींग की बढ़ती खपत के बाद इसकी खेती करने की मांग उठी. इसके लिए बकायदा एक प्रस्ताव तैयार किया गया और ईरान से बीज आयात किए गए. इन बीजों को भारतीय कृषि शोध परिषद (ICAR) से मंजूरी मिलने के बाद बोया गया. आगे रिसर्च में एक बात सामने आई कि बीज से अंकुरित होने की दर केवल एक फीसदी है. मतलब 100 बीज में से केवल एक से ही पौधा उग रहा है. यह एक बड़ी चुनौती है, जिसका हल एक्सपर्ट्स लगातार खोजने में लगे हुए हैं.

यह भी पढ़े: अब इन देशों में कर सकते हैं हवाई यात्रा, इन देशों ने कर रखा है भारत को बैन

भारत में पहली बार हो रही है हींग की खेती

भारत में क्यों नहीं होती है हींग की खेती, हर साल विदेश से मंगाई जाती है 600 करोड़ रुपए की हींग

मिली जानकारी के मुताबिक हींग के पौधे को पनपने के लिए एक अनुकूल वातावरण चाहिए होता है. हींग एक प्रकार की प्राकृतिक जड़ी-बूटी है, जो हिमालय के पहाड़ों में पाई जाती है. अब वैज्ञानिक इस प्राकृतिक चीज को कृत्रिम खेती करने का प्रयोग कर रहे हैं. इसी क्रम में CSIR और IHBT पालमपुर ने पहली बार देश में ही हींग उगाने का काम शुरू किया है. IHBT के डायरेक्टर संजय कुमार ने लाहौल और स्पीति के एक गांव कवारिंग में हींग उगाने की पहल की है, जो हिमाचल प्रदेश का एक ठंडा और सूखा जिला है. निश्चित रूप से अगर भारत में हींग की खेती संभव होती है, तो जितनी मात्रा में हींग आयात होता है, उसमें कमी आएगी.

हींग का इतिहास जानिए

भारत में क्यों नहीं होती है हींग की खेती, हर साल विदेश से मंगाई जाती है 600 करोड़ रुपए की हींग

 

मुग़ल काल के दौरान ईरान से भारत पहुंची. वहीं एक तर्क यह है कि कुछ जनजातियां ईरान से भारत आते समय इन्हें अपने साथ लेकर आईं. धीरे-धीरे हींग भारतीय खान-पान की आदत में आ गई और यहां की हो गई. आयुर्वेद में चरक संहिता में ही हींग का ज़िक्र मिलाता है. इसके आधार पर कुछ लोग कहते हैं कि हींग का इस्तेमाल भारत में कई ईसा पूर्व हो रहा है. सच्चाई जो भी हो. लेकिन इसमें दो राय नहीं हींग के बिना हींग के भारतीयों की रसोई अधूरी है.

यह भी पढ़े: कतर की जेल में सजा काट रहा ये भारतीय कपल, हनीमून पर कर दी थी ये गलती

दुनिया का सबसे बड़ा हींग आयातक भारत

भारत में क्यों नहीं होती है हींग की खेती, हर साल विदेश से मंगाई जाती है 600 करोड़ रुपए की हींग

एक अनुमान के मुताबिक भारत हर साल करीब 600 करोड़ रुपए की हींग का आयात करता है, जोकि एक बड़ी रकम है. हींग की 40 से 50 फीसदी खपत अकेला भारत करता है. देश के लोगों की रसोई तक पहुंचाने के लिए अफगानिस्तान, ईरान और उज्बेकिस्तान से सालाना करीब 1200 टन कच्ची हींग खरीदी जाती है. ईरान और अफगानिस्तान की पहाड़ियों के बीच सबसे ज्यादा हींग पाई जाती है. यहां पहाड़ी इलाकों में हींग का पौधा पाया जाता है.

 

 

 

 

ये भी पढ़े:

GOLD PRICE : 5031 रूपये सस्ता हो चूका है सोना, जानिए दिवाली तक कितनी हो जायेगी कीमत |

आईपीएल 2020 के बाद इस विदेशी टी-20 लीग में खेलते नजर आ सकते हैं महेंद्र सिंह धोनी |

मलाइका अरोड़ा ने बर्थडे सेलिब्रेशन पर पहनी बहुत ही हॉट ड्रेस, ब्लैक ब्रालेट ने मचाया धमाल |

बदली आगरा के रोटी वाली अम्मा की तकदीर, सामने आई नये ढ़ाबे की तस्वीर |

आकाश और ईशा अंबानी के जन्मदिन पर चाची टीना अंबानी ने की दिल छु जाने वाली पोस्ट |

Leave a comment

Your email address will not be published.