बाबा रामदेव की कोरोनिल दवा को मिला सरकार की मंजूरी

बाबा रामदेव की कोरोनिल दवा को मिला सरकार की मंजूरी, जल्द ही आम जनता के लिए होगा उपलब्ध

केंद्रीय आयुष मंत्रालय द्वारा बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद और दिव्य योग फार्मेसी द्वारा बनाया गया दिव्य कोरोनिल दवा को अनुमति मिल गयी है। आयुष मंत्रालय ने दवा बेचने के लिये अनुमति कुछ शर्तों के साथ दे दी है । बता दें कि इस दवा के लॉन्च होते ही इसके प्रचार-प्रसार के तुरंत बाद मंत्रालय ने रोक लगा दी। और इस कंपनी को नोटिस भी भेजी थी।

आयुष मंत्रालय ने बाबा को भेजा था तुरंत नोटिस—

आयुष मंत्रालय ने कहा है कि स्टेट ड्रग लाइसेंस अथॉरटी द्वारा जारी लाइसेंस के आधार पर ही इन दवाओं पर बिक्री कर सकेगी। लेकिन ये दवा कोरोना के नाम पर नही बिकेगा न ही नाम का ज़िक्र होगा।

वहीं आयुष मंत्रालय ने क्लीनिक ट्रायल भी जारी रखने के लिये अनुमति दे दी है। साथ ही कहा है कि ये दवा इम्युनिटी बूस्टर के रूप में बेची जायगी न कि कोरोनावायरस की दवा के रूप में।

कोरोनिल 23 जून को लॉन्च की गई थी—

बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद ने दावा किया था कि कोरोना वायरस के इलाज के लिए दवा बना ली है। वहीं बाबा रामदेव ने दावा भी किया कि इसका कई मरीजो पर प्रयोग भी किया जा चुका है, जिसका रिजल्ट सकारात्मक रहा है। लेकिन इस दावे को खारिज करते हुए आयुष मंत्रालय ने कंपनी को नोटिस भेजा, जिसके बाद उत्तराखंड ड्रग कंट्रोलर की ओर से भी नोटिस आया।

इस दावे को लेकर बवाल मच गया केन्द्र से लेकर स्टेट लाइसेंसिंग अथॉरिटी ने दिव्य योग फॉर्मनसी को नोटिस दे कर दावे के आधार पूछा। जिसमे बाबा रामदेव ने कहा कि कोरोना के दवा का कोई दावा नही किया गया है। उन्होंने कहा कि हमने कभी ये नही कहा कि पतंजलि ने कोरोना की दवा बना ली , हमने बस ये कहा कि पतंजलि ने ऐसी दवा बनाई है कि जिससे कोरोना से संक्रमित मरीज ठीक हुए हैं।

 

 

 

 

Hindnow Trending : धोनी के वो रिकॉर्ड्स जिन्हें तोड़ना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है | अगर आपकी भी है बैंक 
या पोस्ट ऑफिस में एफडी तो तुरंत करें ये जरूरी काम | जानिए किन राशियों पर है शनि भारी | दिल्ली और महाराष्ट्र 
में कोरोनावायरस के कहर से दहशत | सुशांत सिंह राजपूत के मामले में उग्र राज ठाकरे | 4 इंजनों की ताकत 
से दौड़ा भारतीय रेलवे का शेषनाग