सुशांत सिंह राजपूत के मामले में उग्र राज ठाकरे की पार्टी ने किया सबक सिखाने का ऐलान

सुशांत सिंह राजपूत के निधन के 15 दिन से ज्यादा बीत चुके हैं लेकिन मामला शांत होने का नाम नहीं ले रहा है। नेपोटिज्म और गुटबाजी को लेकर बॉलीवुड पर निशाना साधा जा रहा है। इसी बीच सुशांत सिंह राजपूत के मामले में महाराष्ट्र की राजनीतिक पार्टी मनसे का बड़ा बयान आया है, जिसमें नेपोटिज्म वालों को सबक सिखाने की बात कही गई है।

सुशांत सिंह राजपूत के मामले में उग्र राज ठाकरे की पार्टी ने किया सबक सिखाने का ऐलान

सिखाया जाएगा सबक

सुशांत सिंह राजपूत की मौत को लेकर पार्टी मनसे का कहना है जो फिल्म निर्माता इंडस्ट्री में कोई भी नेपोटिज्म को अपनाएगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई करते हुए सबक सिखाया जाएगा। नेपोटिज्म फेस करने वाले स्टार्स को उनसे संपर्क करने की अपील की है।

खबरों के मुताबिक मीडिया से बातचीत में मनसे से बात करते हुए वाइस प्रेसिडेंट वागीश सारस्वत ने कहा है मुंबई पुलिस सही दिशा में जांच कर रही है। पुलिस को नेपोटिज्म पर सबसे सवाल करना चाहिए, चाहे वो भंसाली हों या कोई भी उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

करें मनसे से संपर्क

सुशांत सिंह राजपूत के मामले में उग्र राज ठाकरे की पार्टी ने किया सबक सिखाने का ऐलान

सुशांत सिंह राजपूत और बॉलीवुड की हालिया स्थिति पर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के नेता वागीश ने कहा,

“अगर फिल्म इंडस्ट्री में किसी को सताया जा रहा है, कोई गैंग किसी आर्टिस्ट को काम नहीं दे रही है, तो मनसे से संपर्क करना चाहिए। राज ठाकरे की पार्टी नेपोटिज्म करने वाले को कड़ा सबक सिखाएगी।”

डिप्रेशन है बड़ा कारण

आपको बातें दें कि बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने 14 जून को अपने घर पर आत्महत्या की थी और इसके पीछे डिप्रेशन को बड़ी वजह बताया गया है। सुशांत के डिप्रेशन के लिए बॉलीवुड के कई सितारों को जिम्मेदार ठहराते हुए जांच भी की जा रही है और सुशांत सिंह राजपूत के करीबी समेत सभी महत्वपूर्ण लोगों से पूछताछ की जा रही है।

 

 

 

Hindnow Trending : बाबा रामदेव की कोरोनिल दवा को मिला सरकार की मंजूरी | मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 
ने कोरोना को देखते हुए लिया बड़ा फैसला | चीन की बढ़ी मुसीबत, भारत के साथ आए 27 देश | कोरोनावायरस 
की वैक्सीन 15 अगस्त को भारत में होगा लॉन्च | आज इन राशियों को होगा धन लाभ बन सकते हैं योग | 24 घंटे 
में रिकॉर्ड 377 लोगों का निधन | फर्जी शिक्षको की खैर नहीं

Leave a comment

Your email address will not be published.