अब चीन को सीधे चुनौती देगी भारतीय रेल, सरकार ने शुरू किया ये काम

अब चीन को सीधे चुनौती देगी भारतीय रेल, सरकार ने शुरू किया ये काम

अब चीन को भारतीय रेल चुनौती देने के लिए तैयार हो गई है। दरअसल जल्द ही भारतीय रेलवे द्वारा विश्व की सबसे ऊंची रेलवे लाइन सीमा तक बिछा दी जाएगी। जिससे सेना से संबंधित किसी भी सामान को आसानी से बार्डर तक पहुंचाया जा सकेगा। यह निर्णय हाल ही में चीन से बढ़ती तनातनी को देखते हुए लिया गया है।

हाल ही में चीन ने लेह के गलवान घाटी में धोखे से घुसकर भारतीय सेना पर हमला कर दिया था। जिसमें सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे। उसके बाद से भारत और चीन के बीच लगातार तनाव बना हुआ है।

शुरू हुआ रेलवे लाइन बिछाने का काम

चीन सीमा से सटे लेह तक जाने के लिए रेलवे लाइन का काम शुरू हो गया है। यह समुद्र तल से 2,000 मीटर ऊंची रेलवे लाइन है। भारतीय रेलवे ने लेह-लद्दाख तक ट्रैक बिछाने का भी काम शुरू कर दिया है। इस रेलवे मार्ग का 51 फीसद रास्ता सुरंगों के बीच से होकर गुजरेगा। सामरिक दृिष्ट से महत्वपूर्ण विलासपुर-मनाली-लेह परियोजना के प्राथमिक भू-सर्वेक्षण का काम पूरा करने के बाद 1500 किलोमीटर रेल सेक्शन की लेवलिंग का काम भी पूरा हो गया है। हिमांचल प्रदेश के बिलासपुर से लेह टाउन के बीच 775 किमी लंबी बॉडगेज पटरी बिछाने का काम भी शुरू हो गया है।

20 घंटे में पूरा होगा दिल्ली से लेह तक का सफर

यह रेल लाइन नई दिल्ली और लद्दाख रीजन को जोड़ेगी। इस योजना के तहत बिलासपुर-मनाली लेह लाइन बनाइ जा रही है। इसके बनने से चीन सीमा पर होने वाली गतिविधियों से निपटने में सेना को भी काफी मदद मिलेगी। इसके साथ ही पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा। विशेष बात यह है कि इस रेल लाइन पर मौसम का कोई असर नहीं पड़ेगा। क्योंकि लद्दाख में भारी बर्फबारी के कारण हवाई यात्रा भी प्रभावित हो जाती है।

228 किमी मार्ग गुजरेगा सुरंगों के बीच से

सबसे ऊंची रेलवे लाइन का 51 फीसद मार्ग सुरंगों से होकर गुजरेगा। सबसे लंबी सुरंग 12.5 किमी की होगी। सुरंगों की कुल लंबाई 228 किमी होगी। नई रेलवे लाइन बिलासपुर, सुंदरनगर, मंडी, मनाली, केलांग, कोकसर, डारचा, सरचु, पंग, देबरिंग, उपशी और खारूटो लेह के पहाड़ी इलाकों तक संपर्क बनाएगी।

68 हजार करोड़ रुपये की लागत से बनाई जा रही रेल लाइन

देश की सबसे ऊंची रेलवे लाइन की लागत करीब 68 हजार करोड़ रुपये है। इसमें 10 बड़े पुल बनेंगे। जिनकी लंबाई करीब 23 किमी होगी। 31 स्टेशन बनाए जाने की तैयारी है। दुनियां की सबसे ऊंची रेलवे लाइन होगी।

 

 

 

 

ये भी पढ़े:

विकास दुबे ने उज्जैन से कानपुर आते समय बताया क्यों की देवेन्द्र मिश्रा की बेरहमी से हत्या |

विकास दुबे की कहानी तो खत्म पर ऋचा दुबे ने खोले कई राज |

बीजेपी के 2 विधायकों से साथ विकास दुबे का सम्बंध |

देश में नहीं थम रही कोरोनावायरस की रफ्तार |

बॉलीवुड पर भारी पड़ा 2020, 6 महीने ये मशहूर सितारे कर चुके हैं दुनिया को अलविदा |