PM नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर निर्माण में दिया 50 करोड़ का दान
/

PM नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर निर्माण में दिया 50 करोड़ का दान, जाने सच

अयोध्या में भूमि-पूजन के बाद भव्य राम मंदिर जल्द ही बनकर तैयार होने जा रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने खुद आयोध्या जाकर राम मंदिर की चांदी ईट से नींव रख दी हैं। हालांकि, पत्थरों को तरासने का काम पहले से ही चल रहा है। एक वायरल हुए पत्र में ये दांवा किया जा रहा है कि- पीएम मोदी ने 50 करोड़ रूपए राम निर्माण के लिए देने का फैसला किया है।

आइए चलिए जानते है आखिर क्या है इस वायरल पत्र की पूरी सच्चाई! गौरतलब है कि- इन दिनों सोशल मीडिया पर एक पत्र वायरल हो रहा है। जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और यूपी के सीएम योगी को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर लिखा है कि पीएम मोदी ने योगी आदित्यनाथ और उनकी टीम को हिंदू राष्ट्र में उनके योगदान के लिए मुबारकबाद दी है।

इसके साथ ही कहा कि- वे राम मंदिर के निर्माण के लिए योगी को 50 करोड़ रूपए भेजेंगे। इस वायरल खत को लेकर प्रेस इन्फॉरमेंशन ब्यूरों ( PIB fact check)ने ट्विटर पर एक स्क्रीनशॉट पोस्ट कर इसे जानकारी को फेक बताया है।

वायरल खत में क्या लिखा गया जाने सच्चाई!

पीएमओं हाउस द्वारा यूपी के सीएम योगी के नाम पर जारी पत्र में लिखा, मैं आपको और आपकी टीम को हिंदू राष्ट्र में आपके बहूमूल्य योगदान के लिए बधाई देता हूं।

राम मंदिर निर्माण में इस मील के पत्थर को पूरा करने के लिए आपकी ईमानदारी और कड़ी मेहनत के लिए हिंदू हमेशा आपके और आपकी टीम के आभारी रहेंगे, जो हिंदू राष्ट्र के लिए एक नया इतिहास बनाएगा।

इसके साथ ही पत्र में लिखा गया है कि- पीएम कार्यालय से मैं राम मंदिर के निर्माण के लिए 50 करोड़ रूपए भेज रहा हूं। बता दें कि- 5 अगस्त को पीएम मोदी ने अयोध्या मे राम मंदिर का शिलान्यास और मंदिर के निर्माण के लिए भूमि पूजन भी किया। इसके बाद से ही यह पत्र सोशल मीडिया पर धड़ल्ले से वायरल हो रहा है।

 

 

ये भी पढ़े:

न्यूजीलैंड समेत ये हैं दुनिया के 25 देश, जो कोरोना से जंग जीतकर मुक्त हो गए, देखें लिस्ट |

सारा अली खान ने इस अभिनेत्री को देख एक्ट्रेस बनने की ठानी, फिर घटाया 96 किलो से वजन |

फेसबुक पोस्ट से भड़की हिंसा 2 लोगों की मौत, 60 घायल |

तैमूर से भी ज्यादा खूबसूरत है गोल्ड मेडलिस्ट गीता फोगट का बेटा, देखें तस्वीरें |

“जिंदा रहने का अरमान भी नहीं होता” ये था राहत इंदौरी का अंतिम शायरी |