सरकार बचाने को फ्रंट फुट पर आए अशोक गहलोत, सचिन पायलट पर हमला करने के साथ ही कर रहे लीपापोती

सरकार बचाने को फ्रंट फुट पर आए अशोक गहलोत, सचिन पायलट पर हमला करते हुए कहा……

राजस्थान सरकार में संकट के बीच अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधायकों को जयपुर पहुंचने का फ़रमान जारी कर दिया है वहीं सचिन पायलट पर वो कुछ भी बोलने से बच रहे हैं।

जयपुर: राजस्थान की राजनीति में सर फुटौव्वल के बीच अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपनी कुर्सी बचाने के लिए फ्रंटफुट पर आ गए हैं और हर मुहिम खुद लीड करने के लिए आगे आ गए हैं। उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट की गैरमौजूदगी और सरकार गिराने की मंशा को अशोक गहलोत चुनौती दे दी है।

मंत्रियों-विधायकों की बैठक

लगातार खबरें थीं कि राजस्थान के कई विधायक बागी हो गए हैं उस वक्त में अशोक गहलोत ने बड़ा फ़रमान जारी कर दिया है। मुख्यमंत्री ने अपने सभी विधायकों और मंत्रियों को फरमान जारी किया है कि सभी लोग जल्द से जल्द जयपुर पहुंच जाएं और रात 9 बजे मैं सभी मंत्रियों और विधायकों के साथ बैठक करूंगा।

अशोक गहलोत राजस्थान सरकार का हर एक मंत्री बीजेपी पर सरकार गिराने के आरोप लगा रहा है हालांकि इस मामले में सचिन पायलट पर अभी भी बाकी मंत्री कुछ बोलने से बच रहे हैं उनका कहना है कि सचिन पायलट प्रदेश अध्यक्ष हैं और अगर कोई विधायक उनके साथ है इसका मतलब यह नहीं कि सरकार खतरे में है। मंत्रियोंं की यह बयान साफ करते हैं कि मामला अभी भी पेचीदा है लेकिन खतरा बड़ा है।

लीपापोती कर रहे हैं गहलोत

एक तरफ राजस्थान सरकार की फजीहत हो रही है तो दूसरी और अशोक गहलोत, सचिन पायलट पर आरोप भी लगा रहे हैं और बाद में लीपापोती भी कर रहा है एसओजी द्वारा विधायकों और मंत्रियों को भेजे गए नोटिस पर उन्होंने कहा कि नॉर्मल जांच की प्रक्रिया है लेकिन मीडिया इसको गलत तरीके से पेश कर रही है।

अशोक गहलोत ने ट्वीट किया, ‘एसओजी को जो कांग्रेस विधायक दल ने बीजेपी नेताओं द्वारा खरीद-फरोख्त की शिकायत की थी उस संदर्भ में मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, चीफ व्हिप एवम अन्य कुछ मंत्री व विधायकों को सामान्य बयान देने के लिए नोटिस आए हैं. कुछ मीडिया द्वारा उसको अलग ढंग से प्रस्तुत करना उचित नहीं है.’

बचानी है कांग्रेस सरकार

अशोक गहलोत ने सरकार बचाने के लिए अपने सारे घोड़े खोल दिए अशोक गहलोत ने कहा है कि सभी विधायकों को फोन किया जाए और फोन न मिलने की स्थिति में उनके घर जाएं और उनसे संपर्क करें। अशोक गहलोत ने कैबिनेट मीटिंग में साफ कर दिया है। राजस्थान में कांग्रेस की सरकार को बचाने की जिम्मेदारी केवल उनकी ही नहीं बल्कि कांग्रेस के एक-एक कार्यकर्ता की है और हमें सरकार बचानी है।

नाराज हैं सचिन पायलट

आपको बता दें कि आज सुबह के सभी अखबार और टीवी चैनल ये तस्दीक कर रहें हैं राजस्थान में अशोक गहलोत की सरकार पर खतरा है जिसकी बड़ी वजह उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट की नाराज़गी है। जिसके बाद आनन-फानन में अशोक गहलोत ने कैबिनेट मीटिंग बुलाई लेकिन उस मीटिंग में भी सचिन पायलट नहीं गए थे।

 

 

 

ये भी पढ़े:

चीन करेगा एक फैक्ट्री में 20 करोड़ वैक्सीन का उत्पादन सलाना  |

राजस्थान की गहलोत सरकार पर मंडरा रहे सियासी संकट के बादल |

अब उत्तर प्रदेश सिर्फ 5 दिन ही रहेगा अनलॉक |

गुजरात की महिला पुलिसकर्मी को सत्ता की हनक से टकराने पर पड़ी डांट |

आटा मिल में मिली प्रेमी युगल की लटकती लाश |