गलवान में शहीदों के परिवारों को 40 लाख देगी Lava

भारत-चीन के हुए विवाद में शहीद हुए भारतीय जवानों के परिवारों के लिए भारतीय स्मार्टफोन निर्माता कंपनी लावा ने एक बड़ा ऐलान कर दिया है। लावा ने ऐलान किया है गलवान ने के शहीदों के सभी परिवारों के लिए कफ़न 40 लाख रुपए की मदद देंगी। राष्ट्र के प्रति अपनी जिम्मेदारी को लेकर स्मार्टफोन निर्माता कंपनी ने एक अच्छी पहल की है।

शहादत को सलाम

गलवान में शहीदों के परिवारों को 40 लाख देगी Lava

इस बारे में बातचीत के दौरान लावा इंटरनेशनल कंपनी के सुनील रैना ने कहा ,

एक भारतीय ब्रांड के रूप में, हम अपने बहादुर सैनिकों की देशभक्ति को सलाम करते हैं, जिन्होंने एलएसी में कड़ी लड़ाई लड़ी और अपनी मातृभूमि की रक्षा करते हुए अपनी जान गंवा दी। एक राष्ट्र के रूप में, यह हमारी सामूहिक जिम्मेदारी है कि हम अपने राष्ट्र के लिए किसी भी खतरे के खिलाफ एकजुट हों और देश के लिए अपना काम करें। एक भारतीय ब्रांड होने के नाते, हम अपने सैनिकों की वीरता को सलाम करते हैं और यह छोटा सा योगदान युद्ध के मैदान में हमारे सैनिकों के सर्वोच्च बलिदान के लिए हमारा विनम्र आभार है।”

प्रत्येक परिवार को दो-दो लाख रुपए

लावा इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड ने कहा कि जुलाई के महीने में शहीदों के परिवार के लिए 40 लाख रुपए का फंड जुटाएगी और वो‌ सारा‌ पैसा गलवान घाटी में भारत-चीन सैनिकों की हिंसक झड़प में शहीद हुए 20 भारतीय जवानों के परिवारों को दिया जाएगा। कंपनी ने बताया कि उसके द्वारा ये योगदान नई दिल्ली के साउथ ब्लॉक में आर्मी बैटल कैजुअल्टीज वेलफेयर फंड में दिया जाएगा।

फीचर फोन तक सीमित लावा

आपकों बता दें कि लावा एक भारतीय स्मार्टफोन निर्माता कंपनी है। 2014-15 तक लावा कंपनी का भारतीय स्मार्टफोन मार्केट में एक बड़ा शेयर था। लेकिन 2015 के बाद अचानक आई चाइनीज स्मार्टफोन कंपनीज के आकर्षक स्मार्ट फीचर और अग्रेसिव प्राइसिंग के चलते कंपनी को बेहद नुकसान हुआ था, हालांकि देश में फीचर फोन बनाने में लावा कंपनी का नाम प्रमुख कंपनियों में आता है।

 

 

 

 

HindNow Trending : रिया चक्रवर्ती ने उठाया बड़ा कदम | घाटी में भारतीय सुरक्षाबलों का का बड़ा कारनामा |
प्रधानमंत्री ने की योगी आदित्यनाथ की प्रशंसा | अमेरिका कांग्रेस के सदस्य टेड योहो | 
चीन के लिए खतरा साबित हो सकती है प्रधानमंत्री मोदी

Leave a comment

Your email address will not be published.