UP बोर्ड परीक्षा परिणाम में कैदियों ने गाड़ा झंडा, 10वीं में 92.47% तो 12वीं में 84% उत्तीर्ण

UP बोर्ड परीक्षा परिणाम में कैदियों ने गाड़ा झंडा, 10वीं में 92.47% तो 12वीं में 84% उत्तीर्ण

शनिवार 27 जून को घोषित हुए यूपी बोर्ड रिजल्ट मे कैदियों की भी पठन-पाठन के प्रति रुचि सामने आई. उनके अंदर किस तरह से किताबों  की ओर लगाव है, यह यूपी बोर्ड का परीक्षा फल देखकर ही मालूम हो जाता है. 2020 के परीक्षाफल में हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा में जितने भी कैदियों ने परीक्षा दी, वह सभी सफल हुए. इससे साफ जाहिर होता है कि वह कभी किसी परिस्थिति के चलते गलत कदम उठा बैठे, जिसकी वजह से आज वह जेल मे हैं. अगर उनको मौका मिलेगा तो वह भी खुद को साबित कर सकते हैं.
परीक्षा में सफल हुए ऐसे ही कुछ कैदियों से जब पूछा गया, तो खुशी से उनकी आंखें भर आईं और फिर धीरे-धीरे उनके जज्बात बाहर निकलने लगे. परीक्षा मे आजीवन कारावास तो कोई 7 साल या 10 की सजा काट रहे कैदी सफल हुए हैं. सफल होने पर उनके चेहरों पर ख़ुशी तो है, पर आपने परिवार से दूर होने का गम भी. जो कैदी कम वर्षो कि सजा काट रहे हैं, उनका कहना है कि ज़ब वह जेल से आज़ाद होंगे, तब एक इज़्ज़तदार और ईमानदारी वाली जिंदगी जियेंगे. अधिकांश ने ये बात कबूल कि उन्होंने जो भी अपराध किया वह परिस्थितिवश किया. कैदियों ने लोगों को क्रोध मे किसी भी गलत कदम को न उठाने की अपील की.

देखिए कितने कैदी हुए पास….

यूपी बोर्ड की 10वीं की परीक्षा में इस बार 17 जिलों से 114 कैदियों ने पंजीकरण कराया था. इनमें से 93 कैदियों ने परीक्षा दी. ये सभी पुरुष कैदी थे. 93 में से 86 कैदी 10वीं की परीक्षा में उत्‍तीर्ण हुए. गाजीपुर, मेरठ, सहारनपुर, जौनपुर, वाराणसी, बिजनौर,  रामपुर, बरेली, बदायूं, हरदोई, लखनऊ, उन्नाव, कानपुर नगर, फर्रुखाबाद, हमीरपुर, अयोध्या, फिरोजाबाद की जेलों से बंदियों ने परीक्षा दी थी.
इसी तरह इंटरमीडिएट की 2020 UP बोर्ड परीक्षा की में प्रदेश की 22 जेलों से 2 महिला बंदी सहित 97 पंजीकृत हुए थे. इनमें से 75 परीक्षा में शामिल हुए. परीक्षा में 73 पुरुष और 2 महिलाएं शामिल हुई. इस तरह कुल 75 बंदियों ने परीक्षा दी, जिनमें से 63 ने सफलता हासिल की. दोनों महिला बंदी परीक्षा पास करने में सफल रही. इस तरह इंटरमीडिएट में जेल का रिजल्ट 84% रहा. गाजियाबाद, मेरठ,  मुजफ्फरनगर,  सहारनपुर,  जौनपुर,  वाराणसी,  आजमगढ़, लखीमपुर खीरी,  सीतापुर, हरदोई,  लखनऊ,  रायबरेली, कानपुर नगर, फर्रुखाबाद,  हमीरपुर,  गोरखपुर,  देवरिया,  मुरादाबाद, बिजनौर,  बरेली, बदायूं,  सहारनपुर की जेलों से बंदियों ने परीक्षा दी और सफल रहे.








HindNow Trending : रिया चक्रवर्ती ने उठाया बड़ा कदम | घाटी में भारतीय सुरक्षाबलों का का बड़ा कारनामा |
प्रधानमंत्री ने की योगी आदित्यनाथ की प्रशंसा | अमेरिका कांग्रेस के सदस्य टेड योहो | 
चीन के लिए खतरा साबित हो सकती है प्रधानमंत्री मोदी