अखिलेश, प्रियंका गांधी ने उठाया उत्तर प्रदेश सरकार और पुलिस पर सवाल, कहा-निष्पक्ष जांच हो

अखिलेश यादव, प्रियंका गांधी ने उठाया उत्तर प्रदेश सरकार और पुलिस पर सवाल, कहा-निष्पक्ष जांच हो

कानपुर एनकाउंटर मामले में जिस तरह से हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का एनकाउंटर पुलिस द्वारा दिखाया जा रहा है. उस पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं. कांग्रेस से लेकर उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव योगी सरकार को घेरते हुए तमाम सवाल खड़े किए हैं. साथ ही कई पूर्व रिटायर्ड अधिकारी भी इस मामले पर सवाल खड़े कर रहे हैं. इसी के साथ यह भी कहा जा रहा है कि मात्र विकास दुबे के एनकाउंटर से ही शहीद 8 पुलिस जवानों और उनके परिवारों को न्याय नहीं मिल जाता. उनको न्याय तभी मिलेगा जब विकास जैसे अपराधियों को पालने वालों को भी सजा दी जाएगी.

जानकारों का कहना है कि यह घटना एक सीख की तरह है. हर उन लोगों को इस घटना से सीख लेनी चाहिये जो ऐसे अपराधों को पालते हैं. इस घटना ने एक नहीं कई लोगों के घर को तबाह कर दिया. 8 पुलिस जवान शहीद हो गए. बच्चों के सिर से पिता का साया छिन गया. माताओं के लाल छिन गए. सुहाग उजड़ गया.

8 जवानों के शहीद होने से पुलिस प्रशासन का भी भारी नुकसान हो गया. तमाम बड़ी हस्तियों द्वारा इस घटना पर उठाये जा रहे सवाल, ये खुलकर कह रहे है कि अभी इस पूरे घटनाक्रम का पटाक्षेप ने हुआ है. विकास को पालने वालों को भी गिरफ्तार किया जाना चाहिये. जिन-जिन लोगों के साथ विकास की फोटो वायरल हुई हुई, उनके खिलाफ जाँच बिठाई जानी चाहिये.

गौरतलब है कि 2 जुलाई की रात विकास दुबे को गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस टीम पर विकास ने अपने साथियो के साथ हमला बोल दिया था जिसमे 8 पुलिस जवान शहीद हो गए थे और 7 घायल. घटना के छोटे दिन हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को गिरफ्तार किया गया और 9वें दिन उसका एनकाउंटर कर दिया गया.

पूरे मामले पर…..देखिए क्या कहा इन्होने….

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने सीधा योगी सरकार पर निशाना साधते हुए तंज कसा है कि

“यह कार नहीं पलटी राज खुलने से सरकार पलटने से बचाई गई है.”


तो वहीँ पूर्व आईएएस अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह ने ट्वीट के माध्यम से सवाल खड़े किए हैं कि…

“चिट्टियां गायब, सबूत दफन, अपराधी पस्त, संरक्षक मस्त. विकास दुबे ने योगी सरकार का असली चेहरा जनता के सामने लाकर रख दिया है.”


एक और ट्वीट में उन्होंने कहा है कि

“जब नाश मनुज पर छाता है पहले विवेक मर जाता है.”

तो दूसरी ओर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी ने कहा,

“अपराधी का अंत हो गया. अपराध और उसको संरक्षक देने वाले लोगों का क्या”

 

 

 

ये भी पढ़े:

विकास दुबे के फ़िल्मी एनकाउंटर के बाद भड़की माँ |

भारतीय सेना ने अब बैन किए 89 मोबाइल एप्प |

चीन से चंदा लेने पर गांधी परिवार के तीन ट्रस्टों की जांच के लिए समिति गठित |

भारतीय रेलवे की प्राइवेट ट्रेन में मिलेगी फ्लाइट जैसी सुविधा |

बेटियों के भविष्य के लिए केंद्र सरकार की इस योजना का उठाए लाभ |