विश्वविद्यालयों की परीक्षा नहीं होगी! अंतिम मोहर 2 जुलाई को 

उत्तर प्रदेश: कमेटी की रिपोर्ट, राज्य विश्वविद्यालयों की परीक्षाएं हों निरस्त, छात्र को मिलेगी प्रोन्नती

कोरोना संक्रमण के चलते हुए लॉक डाउन मे स्थगित हुई उत्तर प्रदेश के विश्वविद्यालयों की  परीक्षा पर समिति ने निर्णय लिया है कि अब परीक्षा नहीं कराई जाएगी. बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए विद्यार्थियों के हित मे  कुलपतियों की 4 सदस्यीय समिति ने सरकार को इस सम्बन्ध मे रिपोर्ट सौपी है. हालांकि सरकार इस सम्बन्ध मे 2 जुलाई को मोहर लगाएगी.
मेरठ विश्वविद्यालय के कुलपति एके तनेजा की अध्यक्षता में बनाई गई कमेटी मे जिसमे अवध विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो मनोज दीक्षित भी है सदस्य के साथ अन्य ने यह विद्यार्थियों के भविष्य और कोरोना संकट को ध्यान मे रखते हुए चर्चा की. साथ ही तय हुआ कि विद्यार्थियों को आगे प्रमोट करने के लिए अगली बैठक में निर्णय लिया जायेगा. तो वहीँ सौपी गई रिपोर्ट पे सरकार 2 जुलाई को फाइनल निर्णय लेगी.
गौरतलब है कि राज्य विश्व विद्यालयों की BA, BSc, बीकॉम, LLB सहित सभी विषयो की परीक्षा मार्च में शुरू हुई ही हुई थी, लेकिन कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के कारण यह सोच कर परीक्षा स्थगित कर दी गईं कि जल्द ही संक्रमण काबू मे आ जायेगा और पुनः परीक्षा शुरू कर दी जाएंगी, लेकिन दिन पे दिन संक्रमण ने और विकराल रूप लें लिया.
हालांकि मई के आखिर तक आते-आते सरकार ने लॉडाउन मे छूट शुरू की.  इस पर विश्वविद्यालयों ने भी परीक्षा कार्यक्रम शुरू करने की योजना बनाना शुरू कर दिया, लेकिन अचानक संक्रमित मरीजो की संख्या बढ़ने के कारण समिति ने परीक्षा रद्द करने का निर्णय लिया.  हांलाकि अभी अंतिम मोहर नहीं लगी. ऐसे मे विद्यार्थी भी असमंजस मे हैं. हाल मे परीक्षा रद्द करने की मांग स्टूडेंट्स भी उठा चुके हैं.
Hind Now Trending : भारत ने 59 चीनी एप्प पर लगाया था बैन | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जून मे ही मना 
दी गरीबों की 'दीवाली | ये सभी एक्ट्रेस हो चुकी हैं घरेलू हिंसा की शिकार | बदल रहे हैं कोरोनावायरस के लक्षण | 
गोविंदा ऐसे नहीं हैं नंबर 1 हीरो | आज का दिन किन राशि के लोगों के लिए है शुभ