प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जून मे ही मना दी गरीबों की 'दीवाली' दिए ये उपहार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जून मे ही मना दी गरीबों की ‘दीवाली’ दिए ये उपहार

छठ और दीवाली को देखते हुए नवम्बर तक दिया जायेगा गरीबों को राशन, PM की घोषणा, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का किया  विस्तार, यह योजना जुलाई, अगस्त, सितंबर, अक्टूबर और नवंबर तक लागू रहेगी।
कोरोना काल मे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस घोषणा ने बेरोजगार गरीबों, ज़रूरतमंदों के चेहरे पे ख़ुशी ला दी है. लॉक डाउन के चलते अपनी नौकरी खो चुके करोड़ों लोगों के लिए उनकी यह घोषणा किसी रौशनी से कम नहीं. देश के नाम अपने सम्बोधन मे उन्होंने कहा कि छठ और दीवाली के त्यौहार को देखते हुए अब नवंबर तक जनता को मुफ्त राशन मिलेगा। इस पर करीब 90 हजार करोड़ का खर्च आएगा। उन्होंने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के विस्तार की घोषणा की।
उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार अब दीवाली और छठ पूजा तक अर्थात नवंबर महीने के आखिर तक करने का फैसला हुआ है। 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज देने वाली यह योजना, जुलाई, अगस्त, सितंबर, अक्टूबर और नवंबर तक लागू रहेगी। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के इस विस्तार में 90 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च आएगा. अगर इसमें पिछले तीन महीने का खर्च भी जोड़ दें तो ये करीब-करीब डेढ़ लाख करोड़ रुपए हो जाता है।”

गरीब साथियो के लिए ये भी सुविधा….

उन्होंने कहा कि अब पूरे भारत के लिए एक राशन-कार्ड की व्यवस्था भी हो रही है अर्थात एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड। इसका सबसे बड़ा लाभ उन गरीब साथियों को मिलेगा, जो रोजगार या दूसरी आवश्यकताओं के लिए अपना गांव छोड़कर के कहीं और जाते हैं।

क्यों हैरान है दुनिया….

प्रधानमंत्री (PM) ने कहा कि एक और बड़ी बात है जिसने दुनिया को भी हैरान कर आश्चर्य में डाल दिया है. वह ये कि कोरोना से लड़ते हुए भारत में, 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को 3 महीने का राशन, मतलब परिवार के हर सदस्य को 5 किलो गेहूं या चावल मुफ्त दिया गया। अगर इस बात कि गड़ना की जाए तो, अमेरिका की कुल जनसंख्या से ढाई गुना अधिक लोगों को, ब्रिटेन की जनसंख्या से 12 गुना अधिक लोगों को, और यूरोपियन आबादी से लगभग दोगुने से ज्यादा लोगों को हमारी सरकार ने मुफ्त अनाज दिया है।

अन्न योजना विस्तार की यह है वजह….

प्रधानमंत्री मोदी ने अन्न योजना के विस्तार की वजह बताते हुए कहा, “हमारे यहां वर्षा ऋतु के दौरान और उसके बाद मुख्य तौर पर एग्रीकल्चर सेक्टर में ही ज्यादा काम होता है। अन्य दूसरे सेक्टरों में थोड़ी सुस्ती रहती है। जुलाई से धीरे-धीरे त्योहारों का भी माहौल बनने लगता है। त्योहारों का ये समय, जरूरतें भी बढ़ाता है, खर्चे भी बढ़ाता है। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए ये फैसला लिया गया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार अब दीवाली और छठ पूजा तक, मतलब नवंबर म हीने के आखिर तक कर दिया जाए।”

20 करोड़ गरीबो को दिया गया ये लाभ…..

प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि बीते तीन महीनों में 20 करोड़ गरीब परिवारों के जनधन खातों में सीधे 31 हजार करोड़ रुपए जमा करवाए गए हैं। इस दौरान 9 करोड़ से अधिक किसानों के बैंक खातों में 18 हजार करोड़ रुपए जमा हुए हैं।

सावधानी बरतें….

प्रधानमंत्री मोदी ने अनलॉक 2.0 के दौरान कोरोना को लेकर और अधिक सावधानी बरतने की अपील की। उन्होंने कहा कि विशेषकर कन्टेनमेंट जोन पर हमें बहुत ध्यान देना होगा। जो भी लोग नियमों का पालन नहीं कर रहे, हमें उन्हें टोकना होगा, रोकना होगा और समझाना भी होगा। प्रधानमंत्री मोदी ने अनलॉक शुरू होने के बाद लापरवाहियों को लेकर चिंता भी प्रकट की.

 

 

 

Hind Now Trending : गुरुकेतु से होगा राशियों में परिवर्तन | चेयरमैन शाहनवाज आलम लखनऊ में गिरफ्तार | घर 
में आग लगने से मासूम की जलकर मौत | कांग्रेस पर भड़कीं बीएसपी सुप्रीमो मायावती | राज्य विश्वविद्यालयों की 
परीक्षाएं हों निरस्त | प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 30 जून को शाम 4 बजे करेंगे देश को संबोधित |