भारत के सामने झुका चीनी ड्रैगन, विवादित क्षेत्र से पीछे हटने को हुआ तैयार

भारत के सामने झुका चीनी ड्रैगन, विवादित क्षेत्र से पीछे हटने को हुआ तैयार

भारत औऱ चीन के बीच पिछले कुछ हफ़्तों से गलवान घाटी झड़प में तनाव बना रहा, जिसको देख कर सोमवार को दोनो देशो के सेना के बीच लेफ्टिनेंट जनरल अस्तर की वार्ता करने को लेकर सफल रहा। बताया जा रहा है कि भारत और चीन के वार्ता के दौरान पूर्वी लद्दाख़ से पीछे हटने पर सहमति हुई है। मतलब कि चीनी सेना पीछे हटने को तैयार है।

सूत्रों के मुताबिक सोमवार को हुए बैठक काफी रात करीबन 12 घंटे तक चली। वहीं मंगलवार को पुनः दोनो देशो के बीच वार्ता हुई और वार्ता के बाद यह निर्णय लिया गया कि दोनो देशों के सैनिक टकराव वाले स्थानों से हटाने की तौर तरीकों को अमल में लायेंगे।

चीनी सेना वापस जाए –

सोमवार की वार्ता में पूर्वी लद्दाख़ से सेना वापस हटाने के लिये केंद्रीत किया गया. बातचीत के दौरान भारत ने कहा कि LAC में जैसे पहले स्थिति थी वैसे ही होनी चाहिए, मतलब की चीन अपनी सीमा पर वापस लौट जाए। हालांकि 15 जून को हुई झड़प में सीमा पर काफी माहौल खराब हो गयी थी, दोनो पक्षों ने 3500 किलोमीटर के सीमा के पास अपनी सैन्य ताकत बढा ली।

मल्दो में हुए बैठक में भारत का नेतृत्व 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और चीन के तिब्बती मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट कमांडों ने किया। ये बैठक गलवान घाटी में हुई झड़प के बाद दोनो देशो के बढ़े तनाव को कम करने के लिए किया गया। ये सीमा पर 45 साल बाद ऐसा टकराव था।इस झड़प के बाद तीन बार मेजर जनरल अस्तर पर बैठक हुई जिसे की तनाव को कम किया जा सके।

बातचीत के दौरान चीन ने धोखे से किया हमला-

गलवान घाटी पर भारत द्वारा बनाये गए चौकी पर चीन द्वारा विरोध करने पर ये झड़प हुई। चीन द्वारा पत्थरों, नुकीली कील, डंडे, लोहे की रॉड आदि से भारतीय सैनिकों पर हमला किया गया। जिसमे 20 भारतीय सैनिकों शहीद हुये और चीन ने अपने सैनिकों के हताहत हुए सैनिको का आंकड़ा नही दिया है, लेकिन माना जा रहा है कि चीन के एक कमांडेंट अधिकारी समेत कई सैनिकों की मारे जाने की खबर है, लेकिन इसकी कोई पुष्टि नही हो पाई है।

सुरक्षा बल को मिली छूट-

चीन के रवैये को देखते हुई सरकार ने भारतीय सैनिकों की पूरी छूट दे दी है, जिससे चीनी सेना को मुहतोड़ जवाब दिया जा सके। और सेना के हजारों जवानों को सीमा के सटे ठिकानों पर पहले ही भेज दिया गया है। इस झड़प को देख कर वायु सेना ने भी श्रीनगर और लेह ठिकानो पर अपनी जगुआर, सुखाई 30 एमकेआई, मिराज2000 लड़ाकू विमान तैनात कर दिया है। वहीं रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सेना के अधिकारियों के साथ बैठ कर पूर्वी लद्दाख़ में स्थिति की समीक्षा की है ।

 

 

 

HindNow Trending : कोरोनावायरस के बीच हुई थी शादी | बॉलीवुड अभिनेत्री का दावा सुशांत की हत्या की गयी है | 
इरफ़ान खान की पत्नी ने सुशांत सिंह राजपूत मामले में तोड़ी चुप्पी | सुशांत सिंह राजपूत के मामले में आया नया मोड़ | 
सलमान खान का समर्थन कर बुरे फंसे सुनील ग्रोवर