मालकिन का शव देखते ही कुत्ते ने भी कर ली आत्महत्या 

कानपुर: अर्थी पर मालकिन का शव देखते ही कुत्ते ने भी कर ली आत्महत्या 

यह तो जग जाहिर है कि जानवरों से वफादार कोई नहीं होता. इसकी ताजा मिसाल प्रस्तुत की है एक पालतू मादा कुत्ते ने. दरअसल हुआ यह कि जैसे ही मालकिन का शव घर पहुंचा जया  ने छटपटाहट में 4 मंजिला इमारत से कूदकर जान दे दी. वफादारी का यह किस्सा उत्तर प्रदेश के कानपुर नगर से आया है. बुधवार को बर्रा मलिकपुरम में जब यह घटना घटित हुई तो लोगों की आंखों से आंसू निकल पड़े.
 गौरतलब है कि मलिकपुरम में रहने वाले डॉ. राजकुमार सचान हमीरपुर में मुख्य चिकित्साधिकारी के पद पर तैनात हैं। उन्होंने बताया कि पत्नी डॉ. अनीता राज शहर में ही स्वास्थ्य विभाग में ज्वाइंट डायरेक्टर के पद पर थीं। किडनी की बीमारी के चलते करीब सप्ताह भर पहले उन्हें प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया था, जहां बुधवार को उनकी मौत हो गई।
बेटा डॉ. तेजस व बेटी एमबीबीएस की छात्रा जाह्नवी उनका शव लेकर घर पहुंचे। जैसे ही उनकी पत्नी का शव घर पहुंचा, पालतू जया शव देख कर व्याकुल हो गई। इस पर तेजस ने उसे दूसरी मंजिल पर ले जाकर बंद कर दिया ताकि वह परेशान न हो, लेकिन हमेशा प्यार दुलार करने वाली मालकिन को हमेशा के लिए जाता देख वह खुद को रोक नहीं सकी और छटपटाती हुई चौथी मंजिल पर पहुंच गई और वहां से नीचे छलांग लगा दी। मालकिन और वफादार जया का शव एक साथ देख हर किसी की आँखे नम हो गईं. सभी जया की वफादारी के कसीदे पढ़ रहे थे.

 कुछ यूं मिली थी जया..

डॉ. राजकुमार ने बताया, पत्नी को केपीएम अस्पताल के पास कुत्ते का पिल्ला रोता हुआ दिखा था, जिसके शरीर पर कीड़े पड़ चुके थे। डॉ. अनीता उसे सड़क से उठा कर अपने घर ले आईं थी. इलाज के बाद वह ठीक हो गईं  तो पूरे परिवार को उससे लगाव हो गया। जया का डॉ. अनीता से इतना लगाव था कि उनके घर आते ही वो पूरे घर में नाच कर अपनी खुशी का इजहार करती थी। वह बिना अपनी मालकिन के खाना तक नहीं खाती थी.  ज़ब तक डॉ. अनीता खुद उसे खाना न खिला दें.

 

 

Hindnow Trending : लद्दाख पहुंच गए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी | प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लद्दाख पहुंचना कांग्रेस 
को नहीं आया पसंद | अखिलेश यादव के संसदीय क्षेत्र के सपा नेता ने खून से लिखी चिट्ठी | पढ़ाई के मामले 
में काफी फिसड्डी हैं ये बॉलीवुड अभिनेत्रियाँ | चपरासी की नौकरी कर भरे फ़ीस के पैसे |