इस पेशेवर बाहुबली एथलीट को कोरोना ने पहुंचा दिया था मौत के करीब
/

इस पेशेवर बाहुबली एथलीट को कोरोना ने पहुंचा दिया मौत के करीब, देखें कैसी हो गयी है हालत

सुपरफिट पेशेवर एथलीट अहमद अय्याद को मार्च में कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद जॉन्स हॉपकिंस अस्पताल (अमेरिका) अस्पताल में दाखिल किया गया था। य

सुपरफिट पेशेवर एथलीट अहमद अय्याद को मार्च में कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद जॉन्स हॉपकिंस अस्पताल (अमेरिका) अस्पताल में दाखिल किया गया था। यह अमेरिका में वेंटिलेटर पर जाने वाले कोविड-19 के पहले रोगी थे। अब उनकी स्थिति में सुधार है।

 

हाल ही में उनका एक वीडियो सामने आया है। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस ने कैसे उनकी जिंदगी को बदलकर रख दिया। अहमद अय्याद को जब होश आया तो उन्हें अंदाजा नहीं था कि वे कहां हैं। गले के रास्ते एक बड़ी नली उनके शरीर में उतार रखी थी। अहमद अय्याद 97 किलोग्राम के एक भारी भरकम एथलीट है।

 

जिनकी मांसपेशियां कमजोर हो चुकी थीं। अहमद अय्याद मंगलवार को सीएनएन के हवाले से कहा,

‘मुझे जैसे ही होश आया मैंने अपने हाथ, पैर और मांसपेशियों को देखा. अपनी हालत देखकर मैं जैसे बौखला सा गया था। मैं बस यही सोच रहा था कि मेरे हाथ-पैरों को हुआ क्या है.’

अय्याद ने बताया कि उनकी हालत इतनी बुरी हो चुकी थी कि डॉक्टर्स को उन्हें कोमा की हालत में वेंटिलेटर पर रखना पड़ा. उनकी बॉडी अभी भी धीरे-धीरे रिकवर हो रही है। फिलहाल उनके अभी भी सांस,फेफड़ो से जुड़ी दिक्कते अभी भी है।

कैसे आए चपेट में –

 

 

अहमद अय्याद अमेरिका वॉशिंगटन में रहते हैं। वो वॉशिंगटन में एक रेस्त्रां व क्लब चलाते हैं। वे फिट रहने के लिए खुद को सदैव स्पोर्ट्स से जुड़ा रखते हैं। पहले उन्हें सीढ़ियां चढ़ते वक्त काफी थकावट महसूस हो रही थी। इसके बाद उन्हें खांसी-जुकाम की समस्या होने लगी. तेज बुखार के साथ शरीर की पूरी एनर्जी खत्म होती जा रही थी। एक सप्ताह के अंदर ही उन्हें सांस से सम्बंधित दिक्कतें होने लगी थी। देखते ही देखते उनकी हालत बिगड़ती ही जा रही थी। सारी मेडिकल जांच के बाद उन्हें 15 मार्च को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया। जहां उन्हें 25 दिनों तक वेंटिलेटर पर रखा गया। अब धीरे-धीरे उनकी हालत में सुधार है।

अय्याद सभी के लिए एक सबक-

 

अय्याद सभी के लिए एक सबक है। किसी को अंदाजा नहीं था कि इतने फिट एथलीट की कोरोना वायरस ऐसी हालत कर देगा। जॉन हॉपकिंस अस्पताल की एक डॉक्टर नताली वेस्ट ने कहा कि अय्याद एक जवान और बेहद फिट इंसान हैं। यदि अय्याद जैसे सुपरफिट इंसान की कोरोना वायरस ऐसी हालत कर सकता है तो समझ लीजिए इससे बचना कितना मुश्किल है। अहमद अय्याद का केस उन सभी लोगों के लिए एक बड़ा सबक है जो कोरोना वायरस को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। इस महामारी के दौरान हाथ धोने या मुंह पर मास्क ना पहनने वालों को इससे सीख लेनी चाहिए। हम लोगो को कोरोना वायरस को गंभीरता से लेना चाहिये। मास्क और सैनेटाइजर का इस्तेमाल करे।

 

 

 

HindNow Trending : सावन का पहला सोमवार ,इन राशि पर होगी भोलेबाबा की कृपा | 5 कारण जिसकी वजह 
से विदेशियों से ज्यादा भारतीय करते हैं महेंद्र सिंह धोनी से नफरत | सुशांत सिंह राजपूत के परिजनों ने फिल्म 
‘सड़क 2' के लिए कही बड़ी बात | उत्तर प्रदेश के इस शहर में लगा 15 दिनों का लॉकडाउन | भारतीय कम्पनी 
ने लांच किया बजट में ये 4K टीवी | कानपुर पुलिस ने किस आधार पर गिरा दिया विकास दुबे का घर