2001 में राज्यमंत्री संतोष शुक्ला को थाने में घुसकर गोलियों से भूना था, दर्ज हैं हत्या के 60 मुकदमें

कौन है विकास दुबे जिसने थाने में घुसकर की थी राज्यमंत्री संतोष शुक्ल की हत्या, अब 8 पुलिसकर्मीयों को किया शहीद

कुख्यात अपराधी विकास दुबे की दहशत उत्तर प्रदेश कानपुर से लेकर कानपुर देहात तक है। लोगों और व्यवसायियों से वसूली आदि के भी उस पर आरोप हैं। विकास के खिलाफ हत्या और अन्य गंभीर धाराओं समेत करीब 60 मुकदमें दर्ज हैं। पुलिस विकास और उसके गिरोह के अन्य सदस्यों की धरपकड़ के लिए पूरे इलाके की ड्रोन कैमरे से निगरानी करा रही है।

दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री को गोलियों से भूना था थाने के अंदर घुसकर

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर वर्ष 2001 में तत्कालीन दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री संतोष शुक्ला की हत्या का भी आरोप है। चर्चा थी कि विकास ने साथियों के साथ शिवली थाने के अंदर घुसकर राज्यमंत्री की हत्या की थी। सनसनीखेज हत्याकांड के मामले में विकास को लखनऊ से गिरफ्तार किया गया था।

वर्ष 2000 में कानपुर देहात के शिवली क्षेत्र में स्थित ताराचंद इंटर कॉलेज के सहायक प्रबंधक सिद्धेश्वर पांडेय की हत्या में भी विकास का नाम आया है। इसके अलावा उसने रामबाबू यादव की हत्या की साजिश विकास ने जेल से रची थी। 2004 में केबिल व्यवसायी दिनेश दुबे से विकास ने रंगदारी मांगी थी। रंगदारी न मिलने पर विकास ने दिनेश दुबे की हत्या कर दी थी।

विकास और उसके साथियों ने एके 47 से पुलिस पर बरसाई गोलियां

पड़ताल में सामने आया है कि विकास और उसके साथियों ने मुठभेड़ के दौरान पुलिस पर एके 47 से गोलियां बरसाई थी। यह एके 47 विकास और उसके साथियों के पास कहां से आई पुलिस इसकी भी पड़ताल कर रही है। पुलिस, असलहा तस्कर गिरोह से भी विकास के तार खंगाल रही है।

 

 

 

HindNow Trending : कानपुर एनकाउंटर: शहीद पुलिस राहुल कुमार की मात्र 1 साल की है बेटी | गैंगेस्टर विकास
दुबे और पुलिस के मुठभेड़ में 8 पुलिसकर्मी शहीद | शहीदों को श्रद्धांजलि देने अस्पताल पहुंचे योगी आदित्यनाथ | 
8 पुलिसकर्मियों के शहीद होने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संभाली कमान | विकास दुबे का बड़ा बेटा लन्दन 
में कर रहा MBBS, छोटा कानपुर में 12वीं का छात्र | शातिर अपराधी विकास की माँ ने कहा उसे अब मर जाना चाहिए