जल्लाद था विकास दुबे का दूसरा नाम, पुलिस भी रह जाती थी हैरान
/

मनु पाण्डेय का खुलासा, जानते हो विकास दुबे का दूसरा नाम क्या था “जल्लाद”

कानपुर: बिकरू कांड के कुख्यात अपराधी विकास दुबे का एनकाउंटर हो चुका है। इसके साथ ही अब इस मामले की लगातार जांच हो रही है। इस मामले में दो महिलाओं की फोन पर बातचीत रिकॉर्डिंग भी सामने आई थी, जिस पर काफी चर्चा भी हुई थी। सबसे अहम मनु की कॉल में आवाज है। जिसमें विकास दुबे द्वारा पुलिसकर्मियों की मौत की बात की गई है। इस मामले में अब एक नई बात सामने आई है।

विकास दुबे का दूसरा नाम

विकास दुबे को लेकर मनु पहले भी कई खुलासे कर चुके हैं। दरअसल, इस मामले में एक नया वीडियो वायरल हुआ है। इस वीडियो में पुलिसवाला मनु से पूछताछ कर रहा है। इस वीडियो में मनु कहती है कि आपको विकास दुबे का दूसरा नाम नही पता? ये सुनकर पुलिसवाले सन्न रह जाते हैं। दरअसल मनु ने विकास दुबे का दूसरा नाम बताया है उसने बताया कि उसका दूसरा ‘जल्लाद’ है।

वायरल हुआ ऑडियो

इसी बीच एक नया ऑडियो वायरल हुआ है जिसमें विकास अपना असली रूप दिखा रहा है। इस ऑडिय़ो में विकास दुबे चौबेपुर थाने में तैनात एक सिपाही से से बात कर रहा है औऱ गालीगलौच भी कर रहा है। दरअसल जब विकास दुबे को ये पता चल गया था कि उसके खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है जिसके बाद उसने 12 बजकर 11 मिनट पर राजेन्द्र चौधरी को फोन किया और धमकियां दीं। इस दौरान विकास दुबे ने सिपाही के साथ जबरदस्त गाली-गलौच करते हुए सारी सीमाएं पार कर डालीं।

सिर पर सवार था खून

विकास दुबे को जब पता चला था कि कानपुर पुलिस उसके खिलाफ केस लिख रही है तो वो गुस्से में आ गया था उसके सिर पर खून सवार हो गया था। खबरों क मुताबिक विकास ने ठान लिया था कि यदि कोई पुलिस वाला उसे पकड़ने या मारने आया तो वो जिंदा नहीं जाएगा। उसने कहा था कि वो पूरी जिंदगी जेल में काट लेगा लेकिन पुलिस वालों को नहीं छोड़ेगा विकास दुबे सबसे ज्यादा परेशानी सीओ देवेन्द्र मिश्रा से था उसने मन बना लिय़ा था कि अगर पुलिस की जीप आई तो कोई जिंदा नहीं जाएगा।

पुलिस की जी हुजूरी

विकास दुबे इतनी भयंकर गाली गलौच कर रहा था कि किसी का भी खून खौल उठे लेकिन इस ऑडियो में साफ दिखा कि सिपाही राजेन्द्र चौधरी केवल ‘जी जी’ ही करता रहा। उसके मुंह से कोई और बोल नहीं फूट रहे थे जो ये साफ दर्शाता है कि विकास दुबे के लिए पुलिसकर्मियों में किस तरह के खौफ की स्थिति थी। विकास दुबे सिपाही को धमका रहा था कि बड़े अफसरों को समझा लो रायता फैल जाएगा। इस दौरान वो केवल सबको जान से मारने की बात ही कह रहा है। अब एनकाउंटर के बाद यूपी एसटीएफ एसआईटी पूरे मामले की जांच कर रही है तो सारी राज बेपर्दा हो रहे है।